अब औषधीय पौधों के अर्क से जुड़ेगी टूटी हड्डियां: IIT और बीआईटी ने विकसित की नई दवा वितरण प्रणाली

Edited By Mamta Yadav, Updated: 27 Jul, 2022 08:05 PM

kanpur iit and bit developed drug delivery for bone treatment

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), कानपुर और बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (बीआईटी), मेसरा ने संयुक्त रूप से एक नई दवा वितरण प्रणाली विकसित की है जो रोगग्रस्त और घायल हड्डियों के उपचार को बढ़ावा देने के लिए फाइटो-बायोएक्टिव्स के वितरण को सक्षम...

कानपुर: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), कानपुर और बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (बीआईटी), मेसरा ने संयुक्त रूप से एक नई दवा वितरण प्रणाली विकसित की है जो रोगग्रस्त और घायल हड्डियों के उपचार को बढ़ावा देने के लिए फाइटो-बायोएक्टिव्स के वितरण को सक्षम बनाती है।  टीम का नेतृत्व प्रोफेसर अशोक कुमार जैविक विज्ञान और जैव इंजीनियरिंग विभाग, आईआईटी कानपुर) और डॉ स्नेहा सिंह (बीआईटी मेसरा) ने किया था।      

उन्होंने बताया कि फाइटो-बायोएक्टिव्स पौधों द्वारा उत्पादित प्राकृतिक रसायन हैं जो मनुष्यों के लिए स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। रोगग्रस्त और घायल हड्िडयों के उपचार के लिए पारंपरिक चिकित्सा में फाइटो-बायोएक्टिव्स का उपयोग किया जाता रहा है। विकसित वितरण प्रणाली इन फाइटो-बायोएक्टिव्स को हड्डी की बीमारी या चोट के स्थान पर ले जाने में मदद करेगी। वितरण प्रणाली को नैनो-हाइड्रॉक्सीपैटाइट के उपयोग के लिए नई तकनीक का उपयोग करके बनाया गया है, जो दांतों और हड्डियों को फिर से बनाने और मरम्मत करने में मदद करने के लिए जाना जाता है।       

आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने कहा, ‘‘ आईआईटी कानपुर बहु-विषयक स्वास्थ्य अनुसंधान का केंद्र है। हड्डी की बीमारी को ठीक करने में मदद करने के लिए एक नई बोन हीलिंग बायोएक्टिव डिलीवरी सिस्टम का सफल आविष्कार हमें अपनी पारंपरिक पौधे-आधारित दवा के साथ सर्वश्रेष्ठ आधुनिक बायोटेक को संयोजित करने की अनुमति देता है। मैं पूरी टीम को बधाई देता हूं और विश्वास करता हूं कि यह मील का पत्थर स्वास्थ्य सेवा में नवाचार के लिए नए रास्ते खोलेगा।      

उन्होंने कहा कि अक्सर आघात या विभिन्न रोग स्थितियों के कारण हड्डी की चोटें उत्पन्न होती हैं। फाइटो-बायोएक्टिव्स या पौधों के अकर् प्राकृतिक और गैर-विषैले चिकित्सीय विकल्प हैं जो हड्िडयों की चोटों को सुरक्षित रूप से और बिना किसी दुष्प्रभाव के उच्च खुराक में भी इलाज करते हैं। हड्डी की बीमारियों को ठीक करने और उपचार को बढ़ावा देने के लिए वैकल्पिक चिकित्सा में इनका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। नई डिलीवरी प्रणाली पादप रसायनों को चोट वाली जगह तक कुशलतापूर्वक ले जाने में मदद करती है। पौधे से फाइटो-बायोएक्टिव्स के लिए अभिनव वितरण प्रणाली विकसित की गई है, सीसस क्वाड्रैंगुलरिस (सीक्यू), जिसे आमतौर पर वेल्ड अंगूर के रूप में जाना जाता है।

यह पौधा जोड़ों और हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए अपने लाभों के लिए जाना जाता है और दवा वितरण प्रणाली वृद्धि कारकों, हार्मोन और सिंथेटिक दवाओं से जुड़ी सीमाओं को दरकिनार कर देती है। वितरण प्रणाली ऑस्टियोब्लास्ट उत्पत्ति (नई हड्डी के विकास के लिए हड्डी की कोशिकाओं) की उत्तेजना को बढ़ावा देती है और ऑस्टियोपोरोसिस जैसे हड्डी रोगों के लिए निवारक / वैकल्पिक प्राकृतिक दवा के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। यह नवाचार नई हड्िडयों के विकास में तेजी के साथ महत्वपूर्ण हड्डी दोषों को पूरा करेगा और इससे हड्डी के उपचार में महत्वपूर्ण बदलाव लाने की उम्मीद है।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!