महज 11 साल की उम्र में अनीश ने रचा कीर्तिमान, लिख डाली किताब, ‘द अननोन प्लेस'

Edited By Mamta Yadav, Updated: 12 Jul, 2022 06:28 PM

at the age of just 11 anish made a record wrote a book  the unknown place

कोरोना की काली छाया ने हर मन पर असर डाला था। कोई डर कर अवसाद में चला गया, तो कोई लड़कर इतिहास रचने की राह पर बढ़ चला। कुछ ऐसी ही कहानी है उत्तर प्रदेश में जौनपुर के 11 वर्षीय अनीश यादव की, जिन्होंने कोविड की चुनौती को स्वीकारते हुए खेलने कूदने और...

जौनपुर: कोरोना की काली छाया ने हर मन पर असर डाला था। कोई डर कर अवसाद में चला गया, तो कोई लड़कर इतिहास रचने की राह पर बढ़ चला। कुछ ऐसी ही कहानी है उत्तर प्रदेश में जौनपुर के 11 वर्षीय अनीश यादव की, जिन्होंने कोविड की चुनौती को स्वीकारते हुए खेलने कूदने और पढ़ने की उम्र में अपनी पहली किताब लिख डाली है। उनकी रचना ‘द अननोन प्लेस' पुस्तक के रूप में मूर्तरूप ले चुकी है।       

जौनपुर की शाहगंज तहसील पखनपुर निवासी अनीश राजनीतिक पृष्ठभूमि वाले परिवार से ताल्लुत रखते हैं। वह पूर्व मंत्री शैलेंद्र यादव ललई के भतीजे हैं और प्रयागराज स्थित सेंट जोसफ स्कूल एण्ड कॉलेज में कक्षा छह के छात्र हैं। उन्होंने महज 11 साल में ही एक साहसिक शैली की किताब ‘द अननोन प्लेस' लिख दी। दरअसल अनीश की जिज्ञासु प्रवृत्ति ने उसे लेखक बना दिया।       

अपनी जिज्ञासा और अनुभवों को अनीश ने शब्दों में पिरोकर किताब का रूप दिया है। उनके पिता अजय यादव बताते हैं कि कोरोना काल में अनीश अखबार और टीवी के माध्यम से महामारी से हो रही समस्या को देखता-सुनता था। उसे घर से बाहर ना निकल पाने की टीस रहती थी। एक दिन उन्हें पता चला कि उसने साहसिक शैली से ओतप्रोत, अपनी जिज्ञासाओं और अनुभवों को लिपिबद्ध किया है और वह इसे पुस्तक की शक्ल देना चाहता है। पिता ने बेटे का हौसला बढ़ाया, जिसके परिणामस्वरूप अंग्रेजी में 29 पेज की उसकी किताब तैयार है। उन्होंने बताया कि अनीश की पहली किताब ऑनलाइन बिक्री के लिये उपलब्ध है।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!