UP: प्रश्नपत्र लीक मामले में 3 पत्रकारों की गिरफ्तारी पर छिड़़ा विवाद, आरोपों के घेरे में बलिया पुलिस

Edited By Tamanna Bhardwaj, Updated: 02 Apr, 2022 03:48 PM

up controversy erupts over arrest of 3 journalists in question

माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश की इंटरमीडिएट की अंग्रेजी परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक होने के मामले में 3 पत्रकारों की गिरफ्तारी को लेकर विवाद उत्पन्न हो गया है। पुलिस ने पिछले बुधवार को प्रश्नपत्र लीक होने के मामले में जिन 34 लोगों को गिरफ्तार..

बलिया: माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश की इंटरमीडिएट की अंग्रेजी परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक होने के मामले में 3 पत्रकारों की गिरफ्तारी को लेकर विवाद उत्पन्न हो गया है। पुलिस ने पिछले बुधवार को प्रश्नपत्र लीक होने के मामले में जिन 34 लोगों को गिरफ्तार किया, उनमें 3 पत्रकार अजीत कुमार ओझा, दिग्विजय सिंह और मनोज गुप्ता भी शामिल हैं। पत्रकारों की गिरफ्तारी को लेकर बलिया पुलिस आरोपों के घेरे में आ गई है। हालांकि पुलिस इस मामले पर कोई स्पष्ट जवाब नहीं दे रही है। पेपर लीक मामले में गिरफ्तार पत्रकार दिग्विजय सिंह का एक वीडियो सामने आया है।

वीडियो में दिखाई दे रहा है कि पुलिस जब पत्रकार को गिरफ्तार कर सम्बंधित न्यायालय में पेश करने के लिए ले जा रही है तब वह जिला प्रशासन के विरुद्ध नारेबाजी कर रहा है। वीडियो में पत्रकार दिग्विजय सिंह का कहना है कि बलिया प्रशासन का असली चेहरा सामने आ गया है। उन्होंने कहा कि सूत्रों के जरिये उन्हें लीक प्रश्नपत्र की प्रति मिली थी, जिसे उन्होंने वाराणसी से प्रकाशित एक हिंदी दैनिक समाचार पत्र में प्रकाशित किया था। सिंह ने कहा कि इसके बाद प्रशासन ने उन्हें गिरफ्तार करवा दिया और यह पुलिस का आपराधिक कृत्य है। बलिया शहर कोतवाली पुलिस ने प्रश्न पत्र लीक होने के बाद वाराणसी से प्रकाशित एक हिंदी दैनिक समाचारपत्र के पत्रकार अजीत कुमार ओझा को गिरफ्तार किया था। 

पत्रकार ओझा ने गिरफ्तारी के समय संवाददाताओं से बातचीत में आरोप लगाया कि उन्होंने प्रश्नपत्र लीक होने की खबर समाचार पत्र में प्रकाशित की थी। इसके बाद पुलिस उनके समाचारपत्र कार्यालय में पहुंची और कार्यालय में तोड़फोड़ करते हुए उन्हें गिरफ्तार कर लिया। इसके साथ ही कार्यालय में मौजूद पत्रकारों के साथ दुर्व्यवहार किया गया। पत्रकार ओझा ने स्वयं को बेकसूर करार देते हुए कहा कि उन्हें पत्रकार के दायित्व निर्वहन के कारण गिरफ्तार किया गया है। पुलिस अधीक्षक आर के नैय्यर ने पत्रकारों की गिरफ्तारी के मसले पर कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया।

उन्होंने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि पुलिस मामले की निष्पक्षता के साथ विवेचना कर रही है। पुलिस ने आरोपियों की भूमिका के आधार पर गिरफ्तारी की कार्रवाई की है। सोशल मीडिया पर पत्रकारों की गिरफ्तारी को लेकर वायरल हुए वीडियो पर बलिया पुलिस ने ट्वीट कर सफाई दी है। पुलिस ने कहा है कि उपरोक्त व्यक्ति को अब तक की विवेचना में प्राप्त सुबूतों के आधार पर गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है।” अपर पुलिस अधीक्षक विजय त्रिपाठी ने बताया कि पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!