गन्ना की खेती छोड़ वैकल्पिक खेती में जुटा किसान, मोती पालन से दस गुना होगा मुनाफा

Edited By Ramkesh, Updated: 20 Mar, 2022 02:51 PM

sugarcane farmer started alternative farming profit will be more than ten times

बागपत को यूं तो गन्ने का हब कहा जाता है  और ये सही भी है क्योंकि बागपत में सबसे ज्यादा रकबे पर गन्ने की खेती ही की जाती है गन्ने की अधिक पैदावार के चलते बागपत जैसे छोटे जिले में तीन शुगर फैक्ट्री है जो किसानों का गन्ना खरीदती है इसके बावजूद बागपत के...

बागपत: बागपत को यूं तो गन्ने का हब कहा जाता है  और ये सही भी है क्योंकि बागपत में सबसे ज्यादा रकबे पर गन्ने की खेती ही की जाती है गन्ने की अधिक पैदावार के चलते बागपत जैसे छोटे जिले में तीन शुगर फैक्ट्री है जो किसानों का गन्ना खरीदती है इसके बावजूद बागपत के गन्ना किसान गन्ने के भुगतान को लेकर आंदोलनरत रहते हैं। वहीं पीएम मोदी के स्वरोजगार नीति से प्रभावित होकर गन्ना किसान अब अन्य वैकल्पिक खेती की तैयारी में जुट गए हैं। दरअसल, जिले के काठा गांव के  रमेश सिंह नाम के किसान ने अपनी दो बीघा कृषि भूमि पर मोती की खेती शुरू की है उन्होंने बताया कि इससे उनकी खेती के हिसाब से 10 गुना मुनाफा होगा।

PunjabKesari

रमेश सिंह ने बताया गन्ने के भुगतान में शुगर फेक्टरियों की मन मानी के चलते अब बागपत के किसान गन्ने के अलावा अन्य वैकल्पिक फसलों की तरफ भी आकर्षित होने लगा है। दरअसल, समुंद्री जीव सीप से मोती बनता है और ये मोती काफी महंगे दाम पर गुजरात और महाराष्ट्र में सप्लाय होता है और उत्पादन के सापेक्ष मोती की मांग इतनी अधिक है  कि भारत को करीब 60% मोती आयात करने पड़ता है।  मोती की खेती आम तौर ओर समुंदर के तटीय इलाको में की जाती है लेकिन अब बागपत के किसान भी इस दिशा में कदम उठा रहे है।

PunjabKesari

किसान रमेश बताते है कि बागपत में पहली बार मोती की खेती  कर के उन्हें बहुत अच्छा लग रहा है।  किसान रमेश का कहना है कि यदि सरकारी तौर पर  कुछ सहायता इस खेती पर मिलने लगे तो बागपत के किसान की गन्ने पर निर्भरता कम हो जाएगी और किसान कम जमीन कम लागत और कम मेहनत में भी अधिक मुनाफा कमा सकता है। 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!