आजादी के 75वें वर्ष को यादगार बनाने की तैयारी में योगी सरकार, मुख्य समारोह में पहली बार आमंत्रित होंगी पद्म सम्मानित विभूतियां

Edited By Mamta Yadav, Updated: 06 Aug, 2022 10:18 PM

in preparation to commemorate the 75th year of independence the yogi government

देश की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के मौके को यादगार बनाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार पद्म पुरस्कार विजेताओं को पहली बार आमंत्रित कर रही है। आधिकारिक सूत्रों ने शनिवार को बताया कि पद्म पुरस्कार विजेताओं को स्वतंत्रता सेनानियों के परिजन तथा शहीद...

लखनऊ: देश की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के मौके को यादगार बनाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार पद्म पुरस्कार विजेताओं को पहली बार आमंत्रित कर रही है। आधिकारिक सूत्रों ने शनिवार को बताया कि पद्म पुरस्कार विजेताओं को स्वतंत्रता सेनानियों के परिजन तथा शहीद सैनिकों के परिजनों के साथ मुख्य समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया जाएगा। इसके लिए खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को विशेष रूप से कहा है। इसके लिये तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं।      

गौरतलब है कि यूपी के कुल 14 विभूतियों को 2021 के पद्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। इनमें दो विभूतियां दिवंगत हो चुकी हैं, जबकि 12 विभूतियों को सरकार मुख्य समारोह में ससम्मान आमंत्रित करेगी। इनमें पद्म भूषण से सम्मानित राशिद खान (कला), वशिष्ठ त्रिपाठी (साहित्य एवं शिक्षा) को आमंत्रित किया जाएगा। वहीं पद्मश्री से सम्मानित कामलिनी अस्थाना एवं नलिनी अस्थाना (कला), शिवनाथ मिश्रा (कला), शीशराम (कला), सेठ पाल सिंह (कृषि), विद्या विंदु सिंह (साहित्य एवं शिक्षा), शिवानंद बाबा (योग), अजय कुमार सोनकर (विज्ञान एवं तकनीक), अजिता श्रीवास्तव (कला), डॉ कमलाकर त्रिपाठी (औषधि) को भी आमंत्रण भेजा जाएगा।      

उत्तर प्रदेश के राधेश्याम खेमका (साहित्य एवं शिक्षा) तथा कल्याण सिंह (सार्वजनिक जीवन) को मरणोपरांत पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। 2021 में 4 विभूतियों को पद्म विभूषण, 17 विभूतियों को पद्म भूषण तथा 107 विभूतियों को पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। इनमें यूपी से कुल 14 विभूतियों को अलग अलग श्रेणी में पद्म सम्मानों से नवाजा गया।      

सूत्रों ने बताया कि उत्सव की मुख्य विशेषताओं में से एक यह भी है कि यूपी की विभिन्न संस्कृतियों और क्षेत्रों से संबंधित प्रत्येक वर्ग के 75 लोगों को आमंत्रित किया जाएगा। इसमें लोक कलाकार, आदिवासी समूह और विभिन्न समुदाय शामिल होंगे जो उत्तर प्रदेश की विविध संस्कृति को अपनी पारंपरिक पोशाक में प्रदर्शित करेंगे। कुल मिलाकर, 75 विभिन्न समूहों के 75 व्यक्ति राज्य की समृद्धि का चित्रण करेंगे। इसके अलावा, बीसी सखियां, कारखानों के कर्मचारी, किसान, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सहित 16 ट्रेडों का प्रतिनिधित्व करने वाले लोग भी इस आयोजन का हिस्सा होंगे।

 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!