मदर्स डे पर पढ़िए प्रयागराज की नसीमा बेगम की कहानी, मूक बधिर होने के बावजूद आम महिला की तरह संभाला पूरा परिवार

Edited By Tamanna Bhardwaj, Updated: 08 May, 2022 03:56 PM

read the story of naseema begum from prayagraj on mother s day

संसार में ये सिद्ध हो गया है कि मां की ममता अद्भुत, अकल्पनीय और तुलना रहित होती है। मां इस संसार में जननी के रूप में जानी जाती है, जो अपने प्यार, वात्सल्य और दूध से एक शरीर का निर्माण करती है। पूरे...

प्रयागराज: संसार में ये सिद्ध हो गया है कि मां की ममता अद्भुत, अकल्पनीय और तुलना रहित होती है। मां इस संसार में जननी के रूप में जानी जाती है, जो अपने प्यार, वात्सल्य और दूध से एक शरीर का निर्माण करती है। पूरे देश में आज मातृ दिवस है। मतलब मदर्स डे है। इसी कड़ी में संगम शहर प्रयागराज से अनोखी तस्वीर देखने को मिल रही है। बहादुरगंज इलाके की रहने वाली नसीमा बेगम हर मां या कहे के महिला के लिए एक मिसाल बनी हुई है। नसीमा बेगम जन्म से ही मूक बधिर है। मतलब ना तो वह सुन सकती हैं और ना ही बोल सकती हैं। नसीमा बेगम के तीन बच्चे हैं जिसमें दो बेटी एक बेटा है। खास बात यह है कि नसीमा बेगम मूक बधिर होने के बावजूद भी उन्होंने अपने परिवार को इस तरीके से संभाला है जिस तरीके से एक साधारण महिला संभालती है।
PunjabKesari
जिले के बहादुरगंज इलाके के रहने वाले इरशाद उल्ला का घर लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत बना हुआ है। इरशाद उल्ला की पत्नी नसीमा बेगम ने वह मिसाल कायम की है, जिसके चर्चे शहर के कई क्षेत्रों में है। नसीमा बेगम मूकबधिर होने के बावजूद भी अपने परिवार को ऐसा सजो के रखा है। जैसे उनको कोई तकलीफ ही ना हो। जन्म से ही नसीमा बेगम ना तो सुन सकती है और ना ही देख सकती हैं। इसके बावजूद भी सन 2001 में उनकी शादी इरशाद उल्ला से हुई। शादी के 1 साल के बाद उन्होंने बेटी को जन्म दिया। नसीमा बेगम के अब तीन बच्चे हैं, जो इशारों से अपनी मां से बात करते हैं और उनके इशारों को ही समझ कर घर के काम में हाथ बटाते हैं। आज मदर्स डे के मौके पर उनकी बेटियां अपनी मां को बधाई दे रही हैं और उनके हर एक पल को याद करके खुशियां बांट रही है। उनकी बेटी अलीना और अलीशा का कहना है कि वह इस दुनिया की सबसे बेस्ट मां है। वह चाहती हैं कि उनकी मां को हमेशा सब खुश रखे।
PunjabKesari
उधर, नसीमा बेगम के पति इरशाद उल्ला का कहना है कि 2001 में जब उनको पता चला कि उनकी शादी एक ऐसी महिला से हो रही है, जो सुन और बोल नहीं सकती हैं तो उनको थोड़ी तकलीफ तो हुई, लेकिन उन्हें यह ठान लिया कि हर हाल में वह नसीमा बेगम से ही निकाह करेंगे। इरशाद उल्ला का कहना है कि वह बेहद खुश हैं, क्योंकि नसीमा बेगम पत्नी के साथ साथ एक अच्छी मां का भी किरदार अदा कर रही हैं।

गौरतलब है कि नसीमा बेगम उन महिलाओं में शामिल है, जिन्होंने मुश्किल दौर को मुस्कुराते हुए बिताया है। बेटी से लेकर मां बनने तक के सफर को नसीमा बेगम ने बखूबी निभाया है। अब उनके पति इरशाद उल्ला और उनके बच्चे जमकर सराहना कर रहे हैं। हालांकि समाज को नसीमा बेगम से बहुत सीखना होगा क्योंकि आज के दौर में लोग थोड़ी सी परेशानी में ही टूट जाते हैं।


 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!