Lulu मॉल के बाद अब प्रयागराज रेलवे स्टेशन पर मौलाना ने जमात के साथ पढ़ी नमाज, देखती रही रेलवे पुलिस

Edited By Mamta Yadav, Updated: 22 Jul, 2022 12:18 PM

after lulu mall now namaz was offered at prayagraj railway station

लखनऊ के लुलु मॉल के अंदर नमाज पढ़ने के बाद शुरू हुआ विवाद अभी थमा भी नहीं था की प्रयागराज के प्लेटफार्म नंबर एक के वेटिंग रूम में भी सामूहिक नमाज़ अदा करने का मामला सामने आ गया है। महानंदा एक्सप्रेस ट्रेन से उतारे गए नाबालिक बच्चों के साथ मौलाना ने...

प्रयागराज: लखनऊ के लुलु मॉल के अंदर नमाज पढ़ने के बाद शुरू हुआ विवाद अभी थमा भी नहीं था की प्रयागराज के प्लेटफार्म नंबर एक के वेटिंग रूम में भी सामूहिक नमाज़ अदा करने का मामला सामने आ गया है। महानंदा एक्सप्रेस ट्रेन से उतारे गए नाबालिक बच्चों के साथ मौलाना ने जंक्शन के वेटिंग रूम में सामूहिक रूप से नमाज पढ़ाई है। वेटिंग रूम में मौलाना ने सामूहिक रूप से जमात के साथ नमाज पढ़ाई है। सामूहिक नमाज का वीडियो सामने आने के बाद सार्वजनिक जगह पर नमाज का मामला एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है।

PunjabKesari

दरअसल, सार्वजनिक जगहों पर किसी भी धार्मिक क्रिया करने पर पूरी तरीके से पाबंदी है। बावजूद इसके प्रयागराज जंक्शन के प्लेटफार्म नंबर एक के वेटिंग रूम के अंदर बगैर किसी रोक टोक के बाकायदा तीन वक्त की नमाज सामूहिक रूप से अदा की गई है। वेटिंग रूम में तैनात जीआरपी और आरपीएफ की टीम ने भी सामूहिक रूप से सार्वजनिक जगह पर नमाज पढ़ने से किसी को नहीं रोका। जिसको लेकर सवाल भी खड़े हो रहें हैं।

बता दें कि बिहार से नई दिल्ली जाने वाली महानंदा एक्सप्रेस ट्रेन में नाबालिक बच्चों को बाल मजदूरी के लिए ले जाने की सूचना बचपन बचाओ आंदोलन चलाने वाली संस्था के जरिए जीआरपी प्रयागराज को दी गई थी। प्रयागराज पहुंचने पर महानंदा एक्सप्रेस में जनरल कोच से  जीआरपी की टीम ने करीब 15 नाबालिक बच्चों व छः अन्य को रेस्क्यू कर ट्रेन से उतार लिया। ट्रेन से उतारने के बाद सभी को प्लेटफार्म नंबर के वेटिंग रूम लाया गया। जहां पर सभी से बाल कल्याण समिति की तीन ने पूछताछ करी। बच्चो के साथ ही उनके साथ मौजूद गर्जियन के तौर पर मौलाना से भी पूछताछ की गई।

पूछताछ के दौरान सभी ने बताया की वे फतेहपुर स्थित एक मदरसे में पढ़ाई के सिलसिले में ले जाया जा रहा है। हालांकि बाल कल्याण समिति के सदस्यों को इस बात की आशंका है कि बच्चों को बाल मजदूरी के लिए ले जाया जा रहा था। कुछ इसी तरीके की सूचना बचपन बचाओ आंदोलन नाम की संस्था ने भी करी थी। जिसके आधार पर बाल कल्याण समिति ने सभी बच्चों को चाइल्ड लाइन भेज दिया है। साथ ही उनके परिजनों को भी मामले की जानकारी दे दी गई है। बाल कल्याण समिति का कहना है कि परिजनों के आने के बाद बच्चों को उनकी सुपुर्दगी में सौंप दिया जाएगा। सभी बच्चे बिहार के खगड़िया और सहरसा जिले के रहने वाले हैं।

 

 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!