माघ मेला 2022: नहीं देखी होगी ऐसी साधना...पूजा पाठ का ये अनोखा तरीका, आकर्षण का केंद्र बना शिविर

Edited By Tamanna Bhardwaj, Updated: 22 Jan, 2022 04:24 PM

magh mela 2022 wouldn t have seen such sadhna

यूपी के प्रयागराज के संगम तट पर आस्था के सबसे बड़े धार्मिक मेले माघ मेला में कई साधु संत अपने अनोखे अंदाज, अनोखी साधना और विशेष संकल्प के साथ-साथ खास गेटअप की वजह से श्रद्धालुओं को अपने ओर...

प्रयागराज: यूपी के प्रयागराज के संगम तट पर आस्था के सबसे बड़े धार्मिक मेले माघ मेला में कई साधु संत अपने अनोखे अंदाज, अनोखी साधना और विशेष संकल्प के साथ-साथ खास गेटअप की वजह से श्रद्धालुओं को अपने ओर आकर्षित कर रहे हैं।
PunjabKesari
इसी कड़ी में अमेठी से आए शिवयोगी मौनी बाबा का शिविर लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। हर शाम 6 बजे के बाद शिव योगी मौनी बाबा की अनोखी साधना या कहे की पूजा पाठ की शुरुआत होती है।
PunjabKesari
मौनी बाबा ने संकल्प लिया है कि जिस तरीके से अयोध्या में राम मंदिर का भव्य निर्माण हो रहा है उसी तरीके से काशी और मथुरा में भी मंदिर का निर्माण हो इसके लिए वह अनोखी साधना में लीन रहते हैं। उन्होंने पौष पूर्णिमा से लेकर के माघी पूर्णिमा तक डेढ़ लाख से अधिक दीप दान का भी संकल्प लिया है। इस शिविर में एक बड़ी सी शिवलिंग भी है जिसको दस हज़ार से अधिक रुद्राक्ष की मालाओं से ढका गया है।
PunjabKesari
इस शिविर में अनोखी और एक और खास बात यह है कि इस शिविर में 4 तरीके के अलग-अलग रंग के त्रिशूल भी हैं जो आकर्षण का केंद्र बने हैं। देश मे आतंकी हमला ना हो, देश में शांति बनी रहे , देश की अर्थव्यवस्था दुरुस्त रहे और  महंगाई और वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से निजात मिले इसके लिए लगाए गए हैं। हर रोज मौनी बाबा पूजा के दौरान अनोखे अंदाज से पूरे शिविर की परिक्रमा लेट करके करते हैं। शिविर में तीन कुंड भी बनाए गए हैं जहां पर मौनी बाबा हर दिन हवन पूजा करते हैं। इस दौरान हर रोज भारी संख्या में कल्पवासी या कहें कि श्रद्धालु उनकी इस साधना के गवाह भी बनते हैं।
PunjabKesari
श्रद्धालुओं का कहना है कि मौनी बाबा द्वारा की जा रही है इस अनोखी साधना या कहें कि पूजा पाठ से सभी काफी प्रभावित है। प्रतापगढ़ से आई श्रद्धालु लवली तिवारी का कहना है कि उन्होंने पहली बार अपने जीवन में ऐसे पूजा देखी है। उनका यह भी कहना है कि जब तक वह संगम की रेती पर कल्पवास करेगी वह हर दिन मौनी बाबा के शिविर में आकर के इस साधना का हिस्सा बनेगी।
PunjabKesari
मौनी बाबा उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले के रहने वाले हैं और परमहंस आश्रम के महंत भी हैं। ऐसे ही अलग गेटअप की वजह से शिव योगी मौनी महाराज को रुद्राक्ष वाले बाबा के नाम से जाना जाता है। बाबा अपने शरीर पर 40 किलो की  11 हजार से ज्यादा रुद्राक्ष की माला पहनकर शिविर में  बैठते है ।यह सभी रुद्राक्ष की माला , 101,11, 51 रुद्राक्ष की बनी हुई है। अधिकतर रुद्राक्ष माला कई मुखी वाली है। बाबा के सिर पर 101 से अधिक रुद्राक्ष की माला है।साथ ही मौनी बाबा का शिविर 1 लाख से अधिक रूद्राक्ष से सजाया गया है । मौनी बाबा पिछले 32 सालों से लगातार मेले में आते है और देश मे सुख शांति के लिए हवन पूजन करते है।  मौनी बाबा ने बताया कि इस बार का संकल्प उनका विशेष है उन्होंने कहा कि अयोध्या की तरह काशी और मथुरा में भी मंदिर का निर्माण हो साथ ही साथ देश में सुख शांति बनी रहे और कोरोना महामारी जल्द से जल्द दूर हो इसके लिए वो हर दिन विशेष पूजा पाठ और साधना में लीन रहते है।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!