रेल यात्रियों को मिलने वाली है बड़ी सौगात! जानिए क्या है लक्ष्य और कितने कार्यों में मिली NCR रेलवे को बड़ी कामयाबी

Edited By Mamta Yadav, Updated: 27 Apr, 2022 03:15 PM

know what is the goal and in how many works ncr railway got big success

उत्तर मध्य रेलवे ने 2021-22 में कई उपलब्धियां अपने नाम दर्ज की है और कई जनहित के कार्य युद्धस्तर पर चल रहे हैं। उत्तर मध्य रेलवे ने ऐलान किया है कि 2024 तक दिल्ली हावड़ा और दिल्ली मुंबई जाने वाली सभी एक्सप्रेस ट्रेनों को मिशन 160 के तहत ट्रेनों का...

प्रयागराज: उत्तर मध्य रेलवे ने 2021-22 में कई उपलब्धियां अपने नाम दर्ज की है और कई जनहित के कार्य युद्धस्तर पर चल रहे हैं। उत्तर मध्य रेलवे ने ऐलान किया है कि 2024 तक दिल्ली हावड़ा और दिल्ली मुंबई जाने वाली सभी एक्सप्रेस ट्रेनों को मिशन 160 के तहत ट्रेनों का संचालन 160 किलोमीटर प्रति घंटे तक कर दिया जाएगा। इसके लिए कार्य तेजी से चल रहा है इसके साथ ही साथ वित्तीय वर्ष 2021-22 में बड़े पैमाने में कई रेल मार्ग को दोहरीकरण, तिहरीकरण और चौहरीकरण किया गया है।  इसके साथ ही साथ एनसीआर रेलवे ने 2021-22 में विद्युतीकरण के मामले में भी बड़ी उपलब्धि हासिल की है। 439 रूट किलोमीटर का विद्युतीकरण और उत्तर मध्य रेलवे नेटवर्क पर परिचालित होने वाली  42 जोड़ी मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों को डीजल से इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन में परिवर्तित किया गया है।

PunjabKesari
देखिए ये खास रिपोर्ट..
उत्तर मध्य रेलवे ने यात्रियों को और बेहतर सुविधा देने के लिए एक बड़ा ऐलान किया है। मिशन 160 को लेकर रेलवे विभाग ने अपनी तैयारी तेज़ कर दी हैं। उत्तर मध्य रेलवे के सीपीआरओ डॉक्टर शिवम शर्मा के मुताबिक 2024 तक दिल्ली- हावड़ा और दिल्ली -मुंबई की एक्सप्रेस ट्रेनों की रफ्तार 160 किलोमीटर प्रति घंटा तक हो जाएगी। अधिकारी डॉ शिवम शर्मा के मुताबिक ट्रेन की रफ्तार में बढ़ोतरी के लिए  रेल विभाग लगातार काम कर रहा है ताकि यात्री तय समय पर अपनी मंज़िल तक पहुंच जाए। उन्होंने बताया कि फिलहाल एनसीआर रेलवे की कुछ ट्रेनें ऐसी है जिनकी रफ्तार 130 -150 तक है जिसमे वनदे भारत , राजधानी और गतिमान शामिल है और अगर एवरेज एक्सप्रेस ट्रेन की स्पीड की बात करें तो 92 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चल रही हैं। ऐसे में 2024 तक जब ट्रेनों की रफ्तार 160 किलोमीटर प्रति घंटा हो जाएगी तो हर दिन हजारों यात्रियों को बड़ी राहत मिलेगी।

PunjabKesari
इसके साथ ही साथ एनसीआर रेलवे की उपलब्धियों की बात करें तो वित्तीय वर्ष  2021-22 उत्तर मध्य रेलवे  के लिए बेहद खास  रहा है। इस वर्ष के दौरान बड़े स्तर पर आधारभूत संरचना के विस्तार कार्य पूरे किए गए है। इन कार्यों में 51.2 किमी दोहरीकरण का कार्य किया गया। इसमें कानपुर-वीरांगना लक्ष्मीबाई मार्ग के विभिन्न खंडों का दोहरीकरण शामिल है। 2022 में कानपुर-वीरांगना लक्ष्मीबाई खंड का दोहरीकरण पूरा हो जाएगा। साथ ही 71.89 किमी का तिहरीकरण का कार्य पूरा हुआ| इसमें  आगरा, झांसी और प्रयागराज मंडल के धौलपुर से भांडई, वीरांगना लक्ष्मीबाई से बबीना और नैनी से प्रयागराज छिवकी खंड शामिल हैं। आगरा मंडल के छात्ता-अझई-वृंदावन-भूतेश्वर के बीच 28.04 किलोमीटर चौहरीकरण का काम भी इसी वर्ष  पूरा कर लिया गया है।  इसके साथ ही मथुरा-पलवल चौथी लाइन का 80 किलोमीटर का पूरा प्रोजेक्ट 2021-22 में पूरा हो गया। अप्रैल 2022 में, प्रयागराज मंडल के भाऊपुर और पनकी (10.245 किमी) के बीच चौथी लाइन को भी चालू करने की योजना है।

PunjabKesari
शत-प्रतिशत विद्युतीकरण (इलेक्ट्रिफिकेशन) मिशन के अनुसरण में, उत्तर मध्य रेलवे अपने सभी शेष मार्गों का युद्धस्तर पर विद्युतीकरण कर रहा है। वित्तीय वर्ष 2021-22 उत्तर मध्य रेलवे के लिए उपलब्धियों का वर्ष साबित हुआ जिस दौरान बड़े पैमाने पर विद्युतीकरण कार्य पूरे हुए। उत्तर मध्य रेलवे का कुल ब्रॉड गेज नेटवर्क 3222 रूट किलोमीटर (रूट किमी) है, जिसमें से अब 3146 किलोमीटर का विद्युतीकरण किया जा चुका है। इस प्रकार उत्तर मध्य रेलवे के कुल ब्रॉड गेज नेटवर्क का 98% विद्युतीकरण किया जा चुका है। शेष 76 किलोमीटर का काम अंतिम चरण में है और जल्द ही इसे पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

PunjabKesari
2021-22 में, निम्नलिखित मार्गों का विद्युतीकरण पूर्ण हुआ :-

1. झांसी मंडल के महोबा-खजुराहो (64 रूट किमी)

2. झांसी मंडल के खजुराहो-ईशानगर (57 रूट किमी)

3. झांसी मंडल के बिरलानगर-उदीमोड़ (101 रूट किमी)

4. प्रयागराज मंडल के मैनपुरी-शिकोहाबाद (51 रूट किमी)

5. प्रयागराज मंडल के इटावा-मैनपुरी के साथ मैनपुरी-फर्रुखाबाद, (107 रूट किमी)

6. प्रयागराज मंडल के बरहन-एटा (59 रूट किमी)

वित्तीय वर्ष 2021-22 में, उत्तर मध्य रेलवे और अन्य क्षेत्रों के विभिन्न वर्गों में प्रमुख विद्युतीकरण कार्यों को पूरा करने के बाद उत्तर मध्य रेलवे नेटवर्क पर परिचालित होने वाली 42 जोड़ी मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों को डीजल से इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन में परिवर्तित किया गया है। गौरतलब है कि रेलवे विभाग पिछले कई सालों से यात्रियों को बेहतर सुविधा देने के लिए हर सार्थक प्रयास कर रहा है ।ऐसे में 2 साल तक रहे कोरोना  काल के बावजूद भी रेलवे ने अपने कार्यों से यह साबित कर दिया है कि जनता की सेवा में कोई कसर नहीं छोड़ेगा।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!