ठेकेदार को जिंदा जलाया! आरोपी बिल्डर और मुंशी से रात भर चली पूछताछ, अब तक नहीं खोला मुंह

Edited By Tamanna Bhardwaj, Updated: 22 Jul, 2022 04:27 PM

contractor burnt alive

कानपुरः यूपी के कानपुर में ठेकेदार जिंदा जलाने के मामले में जेल भेजे गए बिल्डर शैलेंद्र श्रीवास्तव व उसके मुंशी राघवेंद्र तिवारी से पुलिस ने देर रात तक पूछताछ की। पूछताछ में दोनों ने सफाई देते हुए बताया कि ठेकेदार राजेंद्र ने खुद ही आग लगा ली।

कानपुरः यूपी के कानपुर में ठेकेदार जिंदा जलाने के मामले में जेल भेजे गए बिल्डर शैलेंद्र श्रीवास्तव व उसके मुंशी राघवेंद्र तिवारी से पुलिस ने देर रात तक पूछताछ की। पूछताछ में दोनों ने सफाई देते हुए बताया कि ठेकेदार राजेंद्र ने खुद ही आग लगा ली। हम लोगों ने नहीं जलाया। दोनों आरोपियों ने वारदात नहीं कबूली है। इस मामले में पुलिस गहनता से जांच कर रही है। 
PunjabKesari
क्या है पूरा मामला?
जानकारी के मुताबिक मामला कानपुर जिले के लाल बंगला एनटू रोड स्थित एमईएस कालोनी का है। जहा के निवासी ठेकेदार राजेंद्र पाल (59) का पिछले 2-3 सालो से बिल्डर शैलेंद्र श्रीवास्तव के साथ पैसों को लेकर विवाद चल रहा था। इसी कड़ी में वह जब पैसो की मांग करने बिल्डर के घर गया तो बिल्डर ने उसे अपने घर के बाहर जलाकर मार दिया। बही ठेकेदार की चिलाने की अवाज सुनकर लोगों की भीड़ लग गई। सूचना पाकर मौके पर पहुची पुलिस ने शैलेंद्र व उसके मुंशी राघवेंद्र पर हत्या समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर, गिरफ्तार कर लिया ।
PunjabKesari
पूछताछ में दोनों आरोपियों ने मृतक से मारपीट की बात कबूली
इस मामले में चकेरी थाने में डीसीपी पूर्वी और एसीपी कैंट ने उनसे कैंट थाने में पूछताछ की तो शुरुआत में दोनों ने राजेंद्र से मारपीट की बात कबूल की हालांकि बाद में वह मुकर गए। बिल्डर शैलेंद्र ने कहा कि वह और उनका पूरा परिवार घर के भीतर ही था। वह पूजा कर रहे थे। इसी बीच चीख की आवाज सुनाई दी। जब उन्होंने बाहर जाकर देखा तो राजेंद्र आग की चपेट में था। इसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी और यहां तक कह दिया कि राजेंद्र ने खुद ही आग लगा ली। 
PunjabKesari
पिता को बिल्डर से 18 लाख रुपये लेने थे- मृतक का बेटा
मृतक राजेन्द्र के बेटे अरविंद पाल ने बताया कि पिता पिछले 12 साल से वह डी ब्लॉक श्याम नगर निवासी बिल्डर शैलेन्द्र श्रीवास्तव के लिए काम करते रहे थे। अरविंद ने आरोप लगाया कि पिता को बिल्डर से 18 लाख रुपये लेने थे, जिसके लिए वह बीते 3-4 साल से उन्हें टाल रहा था। इससे वह पूरी तरह टूट गए थे और उनके ऊपर कर्ज बढ़ गया था। तो एक दिन बुधवार को सुबह लगभग साढ़े दस बजे पिता बिल्डर से हिसाब-किताब करने गए थे। तभी उन्होंने विवाद के बाद बिल्डर शैलेन्द्र श्रीवास्तव और उसके मुंशी राघवेन्द्र तिवारी ने मारपीट के पिता को बंधक बना घर में पेट्रोल डालकर फूंक दिया।
PunjabKesari
क्या कहती है पुलिस?
डीसीपी पूर्वी प्रमोद कुमार ने बताया कि अस्पताल में इलाज के दौरान राजेंद्र ने बयान दिया था, जिसमें कहा था कि शैलेंद्र व राघवेंद्र ने उनको जलाया है। यह बयान पुख्ता सुबूत है। इसका वीडियो भी है। घटना स्थल आरोपी का घर है। ये सभी सुबूत जांच में शामिल किए गए हैं। उसी आधार पर आरोपियों को जेल भेजा गया है। जिसके बाद आरोपी बिल्डर और उसके मुंशी को पुलिस ने गुरुवार दोपहर कोर्ट में पेश करने के बाद 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। बता दें कि राजेंद्र का शव का गुरुवार को पोस्टमार्टम करवाया गया। रिपोर्ट के अनुसार राजेंद्र 99 फीसदी जल चुका था। इसके चलते ही उसकी मौत हो गई। फिलहाल पुलिस ने विसरा को सुरक्षित रख लिया है।

 





 


 



 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!