जिंदा व्यक्ति को मृत दिखाकर दूसरे के नाम हुई वरासत, 5 साल से शख्स अधिकारियों का लगा रहा चक्कर

Edited By Ramkesh, Updated: 09 Mar, 2021 02:47 PM

by showing the dead person alive the inheritance was given to another

हाल ही में फिल्म अभिनेता पंकज त्रिपाठी की एक फिल्म आई जिसका नाम कागज था। इस फिल्म में पंकज त्रिपाठी ने एक मृतक का रोल किया जो कि सालों से कागजों में तो मृत था लेकिन वर्तमान में जिंदा था। अपने को जिंदा साबित करने के लिए उसने सालों पापड़ बेले, बहुत सी...

गोंडा: हाल ही में फिल्म अभिनेता पंकज त्रिपाठी की एक फिल्म आई जिसका नाम कागज था। इस फिल्म में पंकज त्रिपाठी ने एक मृतक का रोल किया जो कि सालों से कागजों में तो मृत था लेकिन वर्तमान में जिंदा था। अपने को जिंदा साबित करने के लिए उसने सालों पापड़ बेले, बहुत सी प्रताडऩा भी झेली और चुनाव भी लड़ लिया हालांकि अंतत: उसको जीत हासिल हुई। फि़ल्म कागज का जिक्र करना इसलिए जरूरी है कि यूपी के गोंडा में भी एक ऐसा शख्स है जो कागजों में तो मृत है पर वर्तमान में जिंदा है। अपने को जिंदा साबित करने के लिए वह पिछले 5 वर्षों से जिले के अधिकारियों की गणेश की परिक्रमा कर रहा है।
PunjabKesari
जानकारी के मुतातबिक मामला जनपद गोंडा के झंझरी विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत रामनगर का बताया जा रहा है। यहां पर  पीड़ित श्रीराम तिवारी पुत्र गिरजा दत्त तिवारी को जीवित होते हुए भी ग्राम पंचायत के परिवार रजिस्टर में मृत दिखाकर मृत्यु प्रमाण पत्र भी जारी कर दिया। तत्कालीन लेखपाल भी एक कदम आगे निकले और उन्होंने पीड़ित की खतौनी में राम गरीब पुत्र गिरजा दत्त निवासी अज्ञात के नाम पीड़ित की ही सारी भूमि वरासत कर डाली। जिसके बाद से ही पीड़ित श्री राम तिवारी पुत्र गिरजा दत्त तिवारी पिछले 5 सालों से अपने को जीवित होने का सबूत दे रहा है। राजस्व एवं विकास खंड के अधिकारी पीड़ित को ही अब कसूरवार भी ठहरा रहे हैं और अधिकारी हैं कि उसको जिंदा मानने को तैयार ही नहीं है।

इस पूरे मामले पर अधिकारियों का कहना है कि दोनों के पिता का नाम एक ही है इसलिए गलती से वरासत हो गई होगी। हालांकि इस पूरे मामले पर कागजों में मृत पीड़ित श्री राम तिवारी का कहना है कि अफसर कहते हैं अगर तुम जिंदा हो तो कभी न कभी जमीन मिल ही जाएगी। उसने यह भी कहा कि तहसील और राजस्व विभाग की ओर से कोई सुनवाई नहीं हो रही है जबकि वह लगातार अधिकारियों के चक्कर लगा रहा है। एसडीएम सदर कुलदीप सिंह का गैर जिम्मेदाराना बयान इस पूरे मामले पर सामने आया। इस बाबत जब एसडीएम से बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस तरह की उन्हें कोई शिकायत नहीं मिली है। अगर ऐसा कोई भी मामला है तो जांच कराई जाएगी। हालांकि आश्वासन देते हुए उन्होंने यह भी कहा कि पीड़ित को निश्चित रूप से न्याय दिलाया जाएगा।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!