कोरोना वायरस को दावत दे रहा स्वास्थ्य विभाग! बिना वैक्सीन लगाए ही ग्रामीणों के जारी कर दिए सर्टिफिकेट

Edited By Umakant yadav, Updated: 11 Aug, 2021 12:22 PM

the health department is feasting on the corona virus

पूरे देश में कोरोना वैक्सीन को लेकर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ बेहद गंभीर नजर आ रहे हैं। लोगों को जागरूक करने के लिए इसके प्रचार प्रसार और योजना पर लाखों रुपये खर्च किया जा रहा है। वहीं स्वास्थ्य विभाग के...

मैनपुरी: पूरे देश में कोरोना वैक्सीन को लेकर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ बेहद गंभीर नजर आ रहे हैं। लोगों को जागरूक करने के लिए इसके प्रचार प्रसार और योजना पर लाखों रुपये खर्च किया जा रहा है। वहीं स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी उनकी इस गंभीरता को शिथिलता में बदलते हुए पलीता लगाने से नहीं चूक रहे हैं। ऐसा ही एक मामला मैनपुरी में देखने को मिला। जहां ग्रामीणों को कोरोना वैक्सीन के कार्ड तो जारी कर दिए गए हैं लेकिन उन्हें कोरोना वैक्सीन की खुराक नहीं मुहैया कराई गई। आरोप यहां तक है कि कार्ड जारी किए हुए डेढ़ माह बीत चुका है लेकिन अभी तक कोई भी स्वास्थ्य कर्मी वैक्सीन के नाम पर देखने तक नहीं आया।

PunjabKesari
पूरा मामला जनपद मैनपुरी के विकासखंड घिरोर के ग्राम लपगवा का है। जहां बीते 24 जून को शासन की मंशा के अनुसार स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कोरोना वैक्सीन लगाने हेतु एक कैंप का आयोजन किया गया था। ग्रामीणों का आरोप है गांव में कुछ लोगों के कार्ड तो जारी हुए पर उनको वैक्सीन नहीं लगाई गई। गांव में पहुंचकर जब ग्रामीणों से बात की तो पता चला। उनको पहला डोज चढ़ाकर वेक्सिनेशन कार्ड तो जारी कर दिया लेकिन वैक्सीन नहीं लगी। स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने ग्रामीणों को बड़ी लापरवाही दिखाते हुए वैक्सीन ना लगा कर उसकी जगह वेक्सिनेशन का पहला डोज चढ़ाकर कार्ड थमा दिए गए। आज करीब डेढ़ महीने से अधिक समय व्यतीत हो गया लेकिन इन ग्रामीणों को वैक्सीन के नाम पर अगर कुछ मिला तो केवल इंतजार और केवल इंतजार।

PunjabKesari
ग्रामीण आज भी इस आस में बैठे हैं उनको वैक्सीन लगाई जाएगी और वे कोरोना जैसी महामारी से बच सकते हैं। अब सबाल यह उठता है आखिर स्वास्थ्य विभाग की ऐसी क्या मजबूरी थी जो ग्रामीणों को बिना वैक्सीन लगाए उनके कार्ड जारी कर दिया। क्या स्वास्थ्य विभाग कागजों पर ही जनपद में ज्यादा वेक्सिनेशन हो जाने की वाहवाही लूटना चाहता है। आखिर शासन की इस जन कल्याणकारी योजना को पलीता लगाने वाले कर्मचारी क्या ऐसे ही प्रशासन की नजरो में धूल झोंकने में सफल रहते है। या लोगों के जीवन से खिलबाड़ करने बाले दोषी कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही करता है। या पूर्व मामलों की भांति मामला लीपापोती कर उन्हें बचा लिया जाता है।

PunjabKesari
वहीं जब इस मामले पर जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर पी पी सिंह से जानकारी की तो उन्होंने बताया यह मामला उनको मीडिया के माध्यम से ही संज्ञान में आया है। उनका कहना है कि मामले की जांच कराई जाएगी और दोषियों के विरुद्ध कठोर से कठोर कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!