देहरादून में दिखा PM मोदी का कवि रूप, गढ़वाली भाषा में की भाषण की शुरूआत

Edited By Nitika, Updated: 05 Dec, 2021 12:02 PM

poetry form of pm modi seen in dehradun

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का शनिवार को यहां कवि रूप दिखाई दिया, जहां उन्होंने उत्तराखंड पर एक कविता सुनाई। उन्होंने अपने भाषण की शुरूआत गढ़वाली भाषा में कर यहां उपस्थित जनसमुदाय की सराहना पाई और वहीं समापन पर कविता सुनाकर खूब तालियां भी बटोरीं।

 

देहरादूनः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का शनिवार को यहां कवि रूप दिखाई दिया, जहां उन्होंने उत्तराखंड पर एक कविता सुनाई। उन्होंने अपने भाषण की शुरूआत गढ़वाली भाषा में कर यहां उपस्थित जनसमुदाय की सराहना पाई और वहीं समापन पर कविता सुनाकर खूब तालियां भी बटोरीं।
PunjabKesari
प्रधानमंत्री ने कविता की शुरूआती पंक्तियों में कहा, ‘‘जहां पवन बहे संकल्प लिए, जहां पर्वत गर्व सिखाते हैं, जहां ऊंचे-नीचे सब रस्ते भक्ति के सुर में गाते हैं, उस देवभूमि के ध्यान से ही मैं सदा धन्य हो जाता हूं, है भाग्य मेरा सौभाग्य मेरा, मैं तुमको शीश नवाता हूं और धन्य-धन्य हो जाता हूं।''
PunjabKesari
वहीं पीएम मोदी का उत्तराखंड प्रेम जगजाहिर है और अपने पिछले भाषणों में उन्होंने कई बार प्रदेश को अपनी कर्मभूमि भी बताया है। अपने जीवन के शुरूआती दौर में उन्होंने केदारनाथ में लंबे समय तक प्रवास किया और साधना भी की। वर्ष 2019 में लोकसभा चुनावों के दौरान भी उन्होंने केदारनाथ जाकर वहां एक गुफा में बाबा केदार की साधना की थी।

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Kolkata Knight Riders

Lucknow Super Giants

Match will be start at 18 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!