अखिलेश ने किया डॉ.कफील की पुस्तक 'गोरखपुर अस्पताल त्रासदी' का विमोचन, सरकार पर बोला हमला

Edited By Ajay kumar, Updated: 02 Jul, 2022 08:17 PM

akhilesh released dr kafeel book gorakhpur hospital tragedy

शनिवार को समाजवादी पार्टी के प्रदेश कार्यालय पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बीआरडी अस्पताल में डॉक्टर रहे कफील खान की पुस्तक गोरखपुर अस्पताल त्रासदी का विमोचन किया।

लखनऊः शनिवार को समाजवादी पार्टी के प्रदेश कार्यालय पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बीआरडी अस्पताल में डॉक्टर रहे कफील खान की पुस्तक गोरखपुर अस्पताल त्रासदी का विमोचन किया। किताब गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत पर लिखी गई है। बता दें कि बीआरडी अस्पताल में वर्ष 2017 में ऑक्सीजन की किल्लत के कारण कई बच्चों की जान चली गई थी जिसके मुख्य आरोपी डा. कफील खान थे।

सरकार में बैठे लोगों को इसे जरूर पढ़ना चाहिएः अखिलेश
पुस्तक का विमोचन करते हुए अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि यह किताब लोगों की आंख खोलेगी। सरकार में बैठे लोगों को इसे जरूर पढ़ना चाहिए। इस किताब में सरकार के उस झूठ को उजागर किया गया है जो उन्होंने छिपाया था। इस अवसर पर अखिलेश यादव ने कहा कि डॉ0 कफील खान ने जब बीआरड़ी मेडिकल कॉलेज में आक्सीजन की कमी से भर्ती बच्चों की सांसें थम गई थी। उस दिन और आगे जो दुःख परेशानी और जेल यातना उन्हें झेलनी पड़ी डॉ0 कफील ने अपनी किताब में उसका विवरण दिया है।


उस समय इलाज की पर्याप्त सुविधाएं मिल जाती तो बच्चों की मौतें नहीं होतीः अखिलेश
अखिलेश यादव ने कहा कि वे खुद पीड़ित परिवारीजनों से मिले थे और उन्हें मदद भी मुहैया कराई थी। अगर उस समय जापानी बुखार से इलाज की पर्याप्त सुविधाएं मिल जाती तो तमाम बच्चों की मौतें नहीं होती। गोरखपुर में जापानी बुखार से हर साल हजारों बच्चों की जिंदगी खत्म हो जाती है। 1978 से अब तक 25000 बच्चे इसके शिकार हो चुके हैं। एक लाख से ज्यादा बच्चे हमेशा के लिए अपाहिज हो चुके हैं। दलित-पिछड़ा और अल्पसंख्यक वर्ग के बच्चे सबसे ज्यादा इससे प्रभावित होते हैं। अखिलेश यादव को उनका एक बड़ा चित्र तथा डॉ0 लोहिया से सम्बन्धित दो पुस्तकें समाजवादी लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय सचिव इकबाल खान तथा पैनलिस्ट मनीष सिंह ने भेंट किया।

किताब में मदद से लेकर जेल तक की जर्नी
डॉ0 कफील ने इस किताब में अपनी पूरी जर्नी के बारे में लिखा है। किस तरीके से अस्पताल में बच्चों को बचाने के लिये जो उस समय ट्रीटमेंट हो सकता था जो पर्याप्त संसाधन से जान बचाई जा सकती थी उसके लिए काम करते रहे। बाद में उन्हें कितना दुख और परेशानी का सामना करना पड़ा। उन्हें जेल तक जाना पड़ा। वही डॉ0 कफील खान को जिम्मेदार ठहराया गया था। उन्हें जेल तक जाना पड़ा। बता दें कि हाल ही में हुए विधान परिषद चुनाव में समाजवादी पार्टी ने कफील खान को उम्मीदवार बनाया था।

किताब लिखने का मेरा उद्देश्य उन 80 से ज्यादा बच्चों को न्याय दिलानाः डॉ कफील
डॉ कफील ने बताया कि इस किताब में योगी सरकार के दावों को सामने लेकर आए हैं किस तरीके से ऑक्सीजन की कमी हुई थी। किताब लिखने का मेरा उद्देश्य उन 80 से ज्यादा बच्चों को न्याय दिलाना है जो ऑक्सीजन की कमी से तड़प कर मर गए। मैंने वो सभी पत्र किताब में लिखे हैं जिस पर बताया जा रहा था कि ऑक्सीजन की कमी नहीं थी। मुख्यमंत्री तक को लेटर लिखा गया था लेकिन किसी ने कोई संज्ञान नहीं लिया। मुझे आरोपी बनाते हुए जेल भेजा गया। बता दें कि डॉक्टर कफील बीआडी अस्पताल में वार्ड सुपरिटेंडेंट थे घटना के बाद कंपनी की ओर से यह दलील दी गई थी कि पिछले कई महीने से भुगतान नहीं मिलने के चलते ऑक्सीजन के सिलेंडर की सप्लाई बंद करनी पड़ी थी।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!