चार ​धड़ों में बंटे यूपी के 19% मुस्लिम वोटर! सपा-बसपा के साथ कांग्रेस-ओवैसी भी दावेदार

Edited By Tamanna Bhardwaj, Updated: 20 Jan, 2022 05:04 PM

19 muslim voters of up divided into four factions along with sp

यूपी में 19 फीसदी मुस्लिम वोट बैंक है, उन्हें लुभाने की सियासत शुरू हो चुकी है। सूबे की मुस्लिम सियासत में असद्दुदीन ओवैसी के रूप में नया अवतार हुआ है। प्रदेश की करीब 403 विधानसभा सीटों में से करीब 125 विधानसभा सीटों पर अल्पसंख्यक वोट...

लखनऊ: यूपी में 19 फीसदी मुस्लिम वोट बैंक है, उन्हें लुभाने की सियासत शुरू हो चुकी है। सूबे की मुस्लिम सियासत में असद्दुदीन ओवैसी के रूप में नया अवतार हुआ है। प्रदेश की करीब 403 विधानसभा सीटों में से करीब 125 विधानसभा सीटों पर अल्पसंख्यक वोट नतीजों में अहम भूमिका निभाते हैं। इस बार समीकरण बदलते दिखाई दे रहे हैं, बड़ी वजह ये है कि 125 सीटों पर प्रभावी भूमिका निभाने वाले 19% मतदाता इस बार चार धड़ों में बंटे दिख रहे हैं। प्रदेश में मुस्लिम वोटरों की सबसे बड़ी दावेदारी रही सपा-बसपा के सामने कांग्रेस और असदुदीन औवैसी की पार्टी AIMIM भी कूद पड़ी है। 19 प्रतिशत मुस्लिम वोटर का रुख क्या होगा ये तो 10 मार्च को चुनाव के नतीजे ही बताएंगे।

बीते सोमवार को इत्तेहाद-ए-मिल्लत काउंसिल के मुखिया मौलाना तौकीर रजा ने अपनी पार्टी की और से कांग्रेस को बिना शर्त समर्थन देने की घोषणा की है। इससे कांग्रेस भी मुस्लिम वोटरों के दावेदारों में शुमार हो गई है। तौकीर रजा ने इस दांव से यूपी में मुस्लिम समुदाय अब चार धड़ों में टूटता नजर आ रहा है। पहला- देवबंदी बहाबी मुसलमान, दूसरा बरेलवी मुसलमान, तीसरा सियासी पार्टी एआईएसआईएस।

तौकीर ने कहा कि प्रदेश में यादववाद व जाटववाद के बजाय मानववाद की जरुरत है। वहीं, यूपी बहूकोणीय मुकाबले की स्थिति में पहले भी कई बार मुस्लिम वोटर बसपा के साथ जा चुके हैं। 2007 में जब मायावती सीएम बनी थी, तब ब्राह्मण-दलित के साथ मुस्लिम वोटरों का भी समर्थन मिला था। 2019 के लोकसभा चुनाव में भी बसपा से 3 मुस्लिम सांसद बने। इनमें दों प.यूपी और एक पूर्वांचल से है। प.यूपी की कई मुस्लिम बहुल सीटों पर माया दलित और मुस्लिम समीकरण साधने में लगी हई हैं।

बरेलवी व देवबंदी मुस्लिम किधर जाएंगे...
कांग्रेस को समर्थन देने वाले मौलाना तौकीर रजा बरेलबी संप्रदाय के आला हजरत के परिवार से है। यूपी के सुन्नी मुस्लिम में बरेलवियों की संख्या ज्यादा है। हालांकि देवबंदी यानी बहाबी मुस्लिमों का ज्यादा असर प. यूपी में है। इसका मरकज दारूल उलूम देवबंद है। इस्लाम मानने वालों ये दोनों संप्रदाय सुन्नी मुस्लिमों के हैं। मुस्लिम राजनीति के जानकार वीरेंद्र भट्ट ने कहा कि देवबंदी मुस्लिम सपा के साथ मजबूती से खड़े हैं। अब मौलाना तौकीर रजा कांग्रेस का समर्थन करने का ऐलान करके मामले को दिलचस्प बना दिया है।

UP के 8 जिलों में 40 % से ज्यादा मुस्लिम आबादी रहती है
प्रदेश के 29 जिलों में मुस्लिम आबादी (19.26%) औसत से ज्यादा है। आठ जिलों में 40% से अधिक है। रामपुर में सर्वाधिक 51%, मुरादाबाद-संभल में 47%, मुजफ्फर-शामली में 41% , अमरोहा में 41% है। 5 जिलों में 30-40% और 12 जिलों में 20-30% है।


 

Related Story

Ireland

India

Match will be start at 28 Jun,2022 10:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!