अयोध्या में जानबूझकर 6 दिसम्बर को ध्वस्त किया गया था बाबरी ढांचा: मायावती

  • अयोध्या में जानबूझकर 6 दिसम्बर को ध्वस्त किया गया था बाबरी ढांचा: मायावती
You Are Here
अयोध्या में जानबूझकर 6 दिसम्बर को ध्वस्त किया गया था बाबरी ढांचा: मायावतीअयोध्या में जानबूझकर 6 दिसम्बर को ध्वस्त किया गया था बाबरी ढांचा: मायावतीअयोध्या में जानबूझकर 6 दिसम्बर को ध्वस्त किया गया था बाबरी ढांचा: मायावती

लखनऊ: बसपा की मुखिया मायावती ने दावा किया कि धर्मनिरपेक्षता की बुनियाद पर देश का संविधान बनाने वाले बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर के प्रति गंदी मानसिकता की वजह से ही भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने अयोध्या में विवादित ढांचा गिराने के लिए छह दिसम्बर का दिन चुना था। मायावती ने अम्बेडकर के 61 परिनिर्वाण दिवस पर यहां आयोजित कार्यक्रम में कहा कि वर्ष 1992 में केन्द्र में कांग्रेस और प्रदेश में भाजपा की सरकार के शासनकाल में अयोध्या के विवादित ढांचे को खण्डित करने के लिए अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस यानी 6 दिसम्बर को इसलिए चुना गया था, क्योंकि बाबा साहब ने धर्मनिरपेक्षता के आधार पर संविधान बनाया था, जो इन ताकतों को पसंद नहीं था।

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा और संघ के लोग यह कतई नहीं चाहते कि हिन्दुआें को छोड़कर अन्य धर्मों के मानने वाले लोग मान-सम्मान की जिंदगी जिए। वे नहीं चाहते कि उनके धार्मिक स्थल और भविष्य सुरक्षित रहें। अम्बेडकर ने उनकी मानसिकता को भांप लिया था, इसे ध्यान में रखते हुए धर्मनिरपेक्षता की बुनियाद पर संविधान बनाया। भाजपा और संघ के लोगों ने गंदी मानसिकता के तहत अम्बेडकर के परिनिर्वाण दिवस पर विवादित ढांचे को खण्डित किया। बसपा मुखिया ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा के लोग मुस्लिम समाज के गरीबों को आर्थिक आधार पर आरक्षण सपने में भी देने को नहीं तैयार हैं। बसपा इसके लिए संसद के अंदर और बाहर आवाज उठाती रही है। 

जानिए और क्या-क्या कहा मायावती ने:-
1. 
लाखों की संख्या में पहुंचे लोगों का शुक्रिया
2. सपा साजिश के तहत हुआ था 9 अक्टूबर की रैली में हादसा
3. मुलायम परिवार एहसान फरामोश
4. सपा मुखिया और बबुआ की तरक्की बाबा साहब की देन
5. सपा सरकार का मुखिया वास्तव में बबुआ
6. स्मारक में लगी मूर्तियों पर अभद्र बयान देता है बबुआ
7. क्या जानेश्वर मिश्र पार्क में लगी मुर्तियां बदलती हैं अपना स्थान
8. सपा मुखिया और बबुआ को अर्थहीन बात करने से पहले सोचना चाहिेए
9. अम्बेडर पार्क को देखने के लिए लाखों की संख्या में आते हैं लोग
10. सपने में भी बबुआ हाथी से परेशान
11. बबुआ के बयानों से हमारे चुनाव चिन्ह का फ्री में प्रचार हो रहा
12. एेसी बातें सिर्फ नासमझ बबुआ ही कर सकता है
13. बबुआ के बयानों से पार्टी को काफी लाभ मिल रहा
14. टिकट से सपा सरकार को भारी राजस्व मिल रहा
15. सरकार जिसे फिजूलखर्ची बताती, वहां पर सैंकड़ों लोग रोज घूमने आते
16. सपा अपने परिवार के मनोरंजन के लिए सैफई में मनाती महोत्सव
17. स्मारकों पर खर्च की वसूली के लिए टिकट की व्यवस्था की
18. लोगों की बीजेपी आरएसएस से सावधान रहने की जरुरत
19. संघर्ष के बाद बाबा साहब ने खुद को काबिल बनाया
20. बाबा साहब ने लोगों को गुलामी से मुक्त कराने के लिए संघर्ष किया
21. मुस्लिम समाज के लोगों की सुरक्षा बाबा साहब ने की
22. बसपा का शासन काल में लोगो को उनके अधिकार मिले
23. आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए सबको एकत्रित होना होगा
24. आजादी के बाद लंबे अरसे तक कांग्रेस सत्ता में रही

UP Breaking News की अन्य खबरें पढ़ने के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!