जुमे की नमाज के बाद हिंसा: पेट्रोल-माचिस और बम लेकर आए थे हमलावर, दहशतगर्दों  ने लगातार किया बमबाजी

Edited By Imran, Updated: 11 Jun, 2022 10:46 AM

the attackers had brought petrol matches and bombs

यूपी के प्रयागराज में कल जुमे के नमाज के बाद भड़की हिंसा की साजिश एक दिन पहले ही रची गई थी। क्योंकि बवाल करने वाली भीड़ में शामिल हमलावर पूरी तैयारी से आए थे। इनमें से कुछ हमलावर बम के साथ पेट्रोल और माचिस भी साथ लिए थे।

प्रयागराज: यूपी के प्रयागराज में कल जुमे के नमाज के बाद भड़की हिंसा की साजिश एक दिन पहले ही रची गई थी। क्योंकि बवाल करने वाली भीड़ में शामिल हमलावर पूरी तैयारी से आए थे। इनमें से कुछ हमलावर बम के साथ पेट्रोल और माचिस भी साथ लिए थे। हमले पर पुलिस ने जब जवाबी कार्रवाई की तो उन्होंने पेट्रोल छिड़ककर वाहनों में आग लगाना शुरू कर दिया।

दहशतगर्दों  ने लगातार किया बमबाजी 
इतना ही हीं दहशत बनाए रखने के लिए दहशतगर्दों ने लगातार बमबाजी करते रहें। आगजनी शुरू होने के बाद पुलिस व आरएएफ ने आंसू गैस के गोले छोड़ने के साथ ही रबर बुलेट का इस्तेमाल किया, तब जाकर हालात पर काबू पाया जा सका। आरएएफ, पीएसी व पुलिस फोर्स संयुक्त रूप से अफसरों के नेतृत्व में आगे बढ़ी तो हमलावर भीड़ पीछे हटने लगी। इस दौरान डीएम ने लाउडहेलर से स्पष्ट एलान भी किया कि उपद्रवियों से पूरी सख्ती से निपटा जाए। इसके बाद फोर्स ने लाठियां बरसाना शुरू किया। फोर्स की इस कार्रवाई से उपद्रवियों में अफरातफरी मच गई और वह इधर-उधर भागने लगे। पुलिस ने भी उन्हें दौड़ा-दौड़ाकर पीटना शुरू किया। इसके बाद तो सड़कों पर ही नहीं, बल्कि गलियों में भी उपद्रवियों पर जमकर लाठियां चटकीं। 

नकाबपोश हमलावरों ने शुरू की आगजनी
पुलिस के द्वारा की गई इस कर्रवाई से भीड़ में शामिल कुछ लोगों ने वाहनों में तोड़फोड़ शुरू कर दी। इस दौरान पुलिस प्रशासन के वाहनों के साथ ही निजी वाहनों पर भी पत्थर बरसाए गए। उधर नूरुल्लाह रोड पर खड़े कई वाहनों को तोड़फोड़ के बाद नाली में धकेल दिया गया। इसी दौरान कुछ नकाबपोश हमलावरों ने आगजनी शुरू कर दी। इस दौरान सबसे पहले पेट्रोल छिड़ककर मुस्तफा कॉम्पलेक्स के पास खड़ी एक बाइक फूंक दी गई। इसके बाद उपद्रवियों ने पास ही खड़ी पीएसी के ट्रक को आग के हवाले कर दिया।  

आंसू गैस के गोले छोड़कर खदेड़े गए
आगजनी होते देख पुलिसकर्मियों के कदम भी एक बार ठिठक गए थे। हालात की गंभीरता को देखते हुए अफसरों ने निर्देश दिया और इसके बाद आंसू गैस के गोले छोड़े जाने लगे। आंखों में जलन होने पर उपद्रवी पीछे हटे जिसके बाद पुलिसकर्मियों ने लाठियां बरसाते हुए उन्हें खदेड़ा। इस पर बड़ी संख्या में हमलावर युवक सड़क के दूसरी ओर स्थित करेली क्षेत्र की गलियों में जाकर छिप गए। इसके बाद उन्होंने ईंट-पत्थर तो बरसाए ही, बम भी फेंके। इससे लगातार धमाके होते रहे और इलाका दहलता रहा। इससे पहले भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़ने के साथ ही रबर बुलेट का भी इस्तेमाल किया गया और तब जाकर हालात काबू में आए।

हिंसा की स्क्रीप्ट पहले से तैयार थी
पुलिस सूत्रों का मानना है कि जिस तरह से पथराव, तोड़फोड़ और आगजनी की गई, उससे साफ है कि बवाल की रूपरेखा पहले से तैयार थी। यही वजह थी कि  हमलावर न सिर्फ ईंट-पत्थर बल्कि पेट्रोल व बम लेकर आए। जुमे की नमाज के ठीक बाद बवाल होने से यह भी माना जा रहा है कि जानबूझकर साजिशन इस दिन को चुना गया। दरअसल साजिशकर्ता यह जानते थे कि जुमे की नमाज के लिए मस्जिदों में बड़ी संख्या में लोग जुटते हैं जिनमें बड़ी संख्या किशोरों और युवाओं की होती है।
 

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!