फर्जी शिक्षिका बन लेती रही तनख्वाह, 16 साल बाद हुई कार्रवाई

  • फर्जी शिक्षिका बन लेती रही तनख्वाह, 16 साल बाद हुई कार्रवाई
You Are Here
फर्जी शिक्षिका बन लेती रही तनख्वाह, 16 साल बाद हुई कार्रवाईफर्जी शिक्षिका बन लेती रही तनख्वाह, 16 साल बाद हुई कार्रवाईफर्जी शिक्षिका बन लेती रही तनख्वाह, 16 साल बाद हुई कार्रवाई

मुजफ्फरनगर: शासन के निर्देश पर फर्जी प्रमाणपत्र पर 16 साल से बेसिक परिषदीय विद्यालय में पढ़ा रही शिक्षिका की सेवा समाप्त कर दी गई है। बता दें कि जांच में बीटीसी की मार्कशीट फर्जी पाए जाने के बाद बीईओ ने आरोपी शिक्षिका के खिलाफ पुरकाजी थाने में मुकदमा दर्ज कराया था।

जानकारी के मुताबिक वर्ष 2001 में तबादले के तहत शिक्षिका प्रवेश कुमारी मुरादाबाद से मुजफ्फरनगर आई थी। उसकी नियुक्ति पुरकाजी विकासखंड के गांव तुगलकपुर के प्राथमिक विद्यालय नंबर 2 में की गई थी। 16 वर्षों से वह इसी स्कूल में पढ़ा रही थी। अचानक किसी ने शिक्षिका के प्रमाणपत्र को लेकर शिकायत मुख्यमंत्री को कर दी। जिसके बाद मुख्यमंत्री ने डीएम को जांच के निर्देश दिए।

शिक्षिका के प्रमाण पत्रों की जांच बेसिक शिक्षा परिषद इलाहाबाद से कराई गई तो बीटीसी का प्रमाणपत्र फर्जी निकला। जांच की बात पता चलते ही शिक्षिका अवकाश पर चली गई। वहीं इस मामले के खुलासे के बाद खंड शिक्षा अधिकारी योगेश शर्मा ने फर्जीवाड़े की धाराओं में शिक्षिका के खिलाफ थाने में मुकदमा दर्ज करवाया था। कार्रवाई प्रक्रिया में बीएसए चंद्रकेश सिंह यादव ने आरोपी शिक्षिका की सेवा समाप्त कर दी है।



UP HINDI NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-
अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन