Subscribe Now!

किन्नरों का सम्मेलन, बेटियों को बचाने और आगे बढ़ाने का उठाया जिम्मा

  • किन्नरों का सम्मेलन, बेटियों को बचाने और आगे बढ़ाने का उठाया जिम्मा
You Are Here
किन्नरों का सम्मेलन, बेटियों को बचाने और आगे बढ़ाने का उठाया जिम्माकिन्नरों का सम्मेलन, बेटियों को बचाने और आगे बढ़ाने का उठाया जिम्माकिन्नरों का सम्मेलन, बेटियों को बचाने और आगे बढ़ाने का उठाया जिम्मा

कन्नौजः उत्तर प्रदेश के कन्नौज में किन्नरों ने छिबरामऊ गोविंद गेस्ट हाउस में अखिल भारतीय मंगलामुखी सम्मेलन का आयोजन किया। इस आयोजन में कई जनपद के किन्नरों ने हिस्सा लिया। किन्नर समुदाय का कहना था कि वो गोद ली हुई बेटी की पढ़ाई-लिखाई के साथ उसकी शादी का पूरा खर्चा उठाएंगे। कई किन्नरों ने बेटियों को गोद ले रखा है। समाज को सन्देश देते हुए कहा कि बेटी को अभिशाप मानकर उनकी कोख में ही हत्या न करें। बेटी को बुरी नजर से देखना बंद होना चाहिए।

इस पांच दिवसीय कार्यक्रम में लखनऊ से आई किन्नर श्रीदेवी ने बताया कि उनके यहां काम करने वाली एक नौकरानी बेटी को जन्म देने के बाद मर गई थी। उसकी बेटी को उन्होंने गोद ले लिया है और अब वह उसे अपने साथ रखती है। उन्होंने उस बेटी का नाम तानिया रखा है। उन्होंने बताया वह तान्या को इतना पढ़ाएंगी कि वह आईपीएस अधिकारी या डॉक्टर बन सके।

इस मौके पर किन्नर वर्षा और किन्नर सोनी को शहर की गद्दी सौंपी गई। कार्यक्रम के दौरान बड़ी धूमधाम से हल्दी रस्म की अदायगी हुई। आगरा से आई किन्नर महालक सीता माई ने किन्नर वर्षा और किन्नर सोनी को हल्दी लगाकर आशीर्वाद दिया और साथ ही उनकी ताजपोशी की रस्म भी अदा की। किन्नरों ने जबरदस्त खुशी का जश्न ढोल-नगाड़ों के साथ नृत्य करते हुए मनाया।

इस कार्यक्रम में किन्नरों ने समाज को संदेश देते हुए कहा कि अगर यदि भारत में बेटियों को अभिशाप मानकर उनकी हत्या किए जाने का यह क्रम नहीं थमा तो आगे चलकर हमारा देश कमजोर हो जाएगा। उन्होंने बेटियों को भारत की ताकत बताते हुए कहा कि वह बेटियों को गोद लेने का अभियान चला रही हैं।




अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन