मायावती ने कोविंद को दी बधाई, कहा-अच्छा हाेता अगर डा. अंबेडकर की प्रतिमा पर भी पुष्प अर्पित करते

  • मायावती ने कोविंद को दी बधाई, कहा-अच्छा हाेता अगर डा. अंबेडकर की प्रतिमा पर भी पुष्प अर्पित करते
You Are Here
मायावती ने कोविंद को दी बधाई, कहा-अच्छा हाेता अगर डा. अंबेडकर की प्रतिमा पर भी पुष्प अर्पित करतेमायावती ने कोविंद को दी बधाई, कहा-अच्छा हाेता अगर डा. अंबेडकर की प्रतिमा पर भी पुष्प अर्पित करतेमायावती ने कोविंद को दी बधाई, कहा-अच्छा हाेता अगर डा. अंबेडकर की प्रतिमा पर भी पुष्प अर्पित करते

नई दिल्लीः बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को बधाई देते हुए आज कहा कि अच्छा होता कि वह महात्मा गांधी की समाधि पर पुष्पांजलि देेने के साथ साथ डा. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर भी पुष्प अर्पित करते।

कोविंद आज संसद के केंद्रीय कक्ष में राष्ट्रपति पद की शपथ ग्रहण करने से पहले राजघाट स्थित महात्मा गांधी की समाधि पर श्रद्धांजलि सुमन अर्पित करने गए थे।   सुश्री मायावती ने यहां कहा, 'राष्ट्रपति पद की शपथ लेने पर रामनाथ कोविंद को हार्दिक बधाई और शुभकामनायें हैं लेकिन अच्छा होता कि अगर वह आज राजघाट जाकर गाँधीजी को फूल अर्पित करने के साथ-साथ संसद परिसर में लगी डा. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर भी अपने श्रद्धा के कुछ फूल अर्पित कर देते, जिनकी वजह से ही आज वे देश के राष्ट्रपति बन पाये हैं।'

बसपा अध्यक्ष ने कहा कि संसद परिसर में डा. अंबेडकर की लगी प्रतिमा या फिर केंद्रीय कक्ष में लगे इनके फोटो-चित्र पर भी पुष्प अर्पित नहीं करना, एक ऐसा संकेत है, जो भारतीय जनता पार्टी और इनके राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन और सहयोगी दलों की अंबेडकर-विरोधी सोच तथा मानसिकता को प्रदर्शित करता है।

मायावती ने कहा कि कोविंद को डा. अंबेडकर को भी श्रद्धा सुमन जरूर अर्पित करने चाहिये थे और अन्य किसी से तो नहीं किन्तु दलित समाज से ताल्लुक रखने वाले व्यक्ति से तो यह उम्मीद की ही जा सकती है कि वह डा. अंबेडकर के जीवन संघर्ष और उनके बलिदानों के प्रति हमेशा ही कृतज्ञ रहेगा। अगर वह राष्ट्रपति के पद पर आसीन हो पायें हैं, तो उसकी सबसे बड़ी देन डा. अंबेडकर की है। उन्होंने कहा कि बसपा के आंदोलन ने भाजपा को एक दलित व्यक्ति को राष्ट्रपति बनाने के लिए मजबूर कर दिया है। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!