SP विधायक का एेलान, राम मंदिर बनाने के लिए 15 करोड़ और मुकुट के 10 लाख दूंगा

  • SP विधायक का एेलान, राम मंदिर बनाने के लिए 15 करोड़ और मुकुट के 10 लाख दूंगा
You Are Here
SP विधायक का एेलान, राम मंदिर बनाने के लिए 15 करोड़ और मुकुट के 10 लाख दूंगाSP विधायक का एेलान, राम मंदिर बनाने के लिए 15 करोड़ और मुकुट के 10 लाख दूंगाSP विधायक का एेलान, राम मंदिर बनाने के लिए 15 करोड़ और मुकुट के 10 लाख दूंगा

लखनऊः समाजवादी पार्टी के सरंक्षक मुलायम सिंह के करीबी और सपा विधायक बुक्कल नवाब ने राम मंदिर को लेकर एेलान जारी किया है। उन्होंने कहा मैं अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए 15 करोड़ रुपए दूंगा। इसके अलावा मुकुट के लिए 10 लाख रुपए अलग से भी दूंगा।'' बता दें उन्होंने ये बातें लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कही।

भगवान राम को मुकुट पहनाऊंगा मुकुट
बुक्कल नवाब ने प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान कहा, ''मंदिर अयोध्या में था और वहीं बने तो बेहतर है। भगवान राम अयोध्या में पैदा हुए थे, ऐसे में उनका मंदिर अयोध्या में ही बनना चाहिए। मैं भगवान राम का मंदिर बनने के बाद उनको मुकुट पहनाऊंगा।''

गोमती किनारे जमीन मेरे पूर्वजों की, कोर्ट में चल रहा केस
साथ ही बुक्कल नवाब ने गोमती के किनारे की जमीन कब्जा करने के आरोप पर कहा, "गोमती नदी के किनारे की जमीन मेरे पूर्वजों की हैं, क्योंकि हम पहले से बहुत रईस हैं। मेरे पिता पायलट थे। दादा के पास कई सौ बीघा जमीनें थीं, जो सीतापुर, लखनऊ, हरदोई में थीं। बाढ़ के दौरान अक्सर ये जमीन पानी में डूबी रहीं, जिससे स्थाई कब्जा नहीं हो पाया। मैंने पेपर्स कोर्ट में दिए हैं, जिसका केस चल रहा है।''
बता दें कि बुक्कल नवाब पर फर्जी तरीके से गोमदी के किनारे की जमीन कब्जा कर 8 करोड़ रुपए मुआवजा लेने का आरोप है। उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई गई है। यह रकम वापस करने के लिए उन्हें नोटिस भी जारी की गई है।

मुझे सरकार से 30 करोड़ का मुआवजा मिलना बाकी
उन्होंने कहा, ''अभी मुझे सरकार से करीब 30 करोड़ का मुआवजा मिलना है। इस जमीन का इस्तेमाल सरकार ने गोमती रिवरफ्रंट के डेवलपमेंट में किया है, लेकिन अभी तक सरकार ने जमीन का मुआवजा नहीं दिया है। जैसे ही सरकार से जमीन का मुआवजा मिलता है मैं इस रकम में से 15 करोड़ राम मंदिर के निर्माण के लिए दान कर दूंगा।''

मकान विवाद में ठेकेदार की गलती
उन्होंने कहा, ''मेरे ऊपर जो आरोप लगे हैं, उसमें मेरा कोई दोष नहीं हैं। मैंने अपने मकान के लिए एलडीए से परमिशन ली थी। आम शख्स को भी अपने एक मकान पर 3 फ्लोर बनाने की परमिशन होती है। हालांक‍ि, मेरे मकान के बाकी के जो 2 मंजिल बने हैं, वो ठेकेदार की गलती से हुआ है। मैंने जिस ठेकेदार को मकान बनवाने के लिए ठेका दिया था, उसने निर्माण कराया है।''
 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!