Subscribe Now!

बेटियां बनी अभिशापः लगातार 7 बेटियां हाेने पर शाैहर ने घर से निकाला

  • बेटियां बनी अभिशापः लगातार 7 बेटियां हाेने पर शाैहर ने घर से निकाला
You Are Here
बेटियां बनी अभिशापः लगातार 7 बेटियां हाेने पर शाैहर ने घर से निकालाबेटियां बनी अभिशापः लगातार 7 बेटियां हाेने पर शाैहर ने घर से निकालाबेटियां बनी अभिशापः लगातार 7 बेटियां हाेने पर शाैहर ने घर से निकाला

मेरठः बेटा और बेटी में कोई फर्क नहीं है। 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं' अभियान के बावजूद लोगों की मानसिकता नहीं बदल रही है। ताजा मामला मेरठ जिले का है। जहां एक महिला को बेटी पैदा करना महंगा पड़ गया। बेटी पैदा करने पर उसके पति ने उसे घर से बाहर कर दिया। जिसके बाद महिला न्याय के लिेए दर-दर भटक रही है।

जानकारी के मुताबिक सुल्ताना की शादी थाना लिसाड़ीगेट क्षेत्र के तारापुरी निवासी सममुद्दीन से 14 साल पहले हुई थी। शादी के एक वर्ष बाद ही सुल्ताना को बेटी पैदा हो गई, जिसके बाद से पति सममुद्दीन ने सुल्ताना को घर से निकाल दिया था। जिसके बाद परेशान सुल्ताना काफी दिन तक अपने मायके में ही रही।

समाज के लोगों के माध्यम से पति सममुद्दीन पत्नी सुल्ताना को घर ले गया, लेकिन उसके बाद से ही लगतार आज तक सुल्ताना को 7 बेटियां पैदा हो गईं। हाल ही में सातवीं बेटी पैदा होने के बाद पति और ससुरालियों ने सुल्ताना को घर से ये कहकर धक्के मारकर निकाल दिया कि सुल्ताना लड़कियां पैदा करती है।

पीड़िता का आरोप है कि बेटियां पैदा होने के बाद पति ने उसके साथ मारपीट की और बच्ची को बेचने के लिए छीन लिया। दिल्ली में डेढ़ लाख रुपए में बेचने का सौदा कर लिया। पीड़िता ने इसकी सूचना थाना पुलिस को दी। थाना पुलिस ने महिला की बच्ची तो वापस दिला दी लेकिन उसको अभी तक उसके पति के साथ उसके घर भेजने के जहमत नहीं उठाई। उधर पुलिस का कहना है कि महिला से तहरीर लेकर आगे की कार्रवाई की जाएगी।




अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन