Subscribe Now!

बीएचयू में डॉक्टरों ने की लापरवाही, महिला का ऑपरेशन कर पेट में छोड़ दी 5 सुई

  • बीएचयू में डॉक्टरों ने की लापरवाही, महिला का ऑपरेशन कर पेट में छोड़ दी 5 सुई
You Are Here
बीएचयू में डॉक्टरों ने की लापरवाही, महिला का ऑपरेशन कर पेट में छोड़ दी 5 सुईबीएचयू में डॉक्टरों ने की लापरवाही, महिला का ऑपरेशन कर पेट में छोड़ दी 5 सुईबीएचयू में डॉक्टरों ने की लापरवाही, महिला का ऑपरेशन कर पेट में छोड़ दी 5 सुई

वाराणसीः उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है। जहां एक महिला की नसबंदी के ऑपरेशन के बाद डॉक्टरों ने महिला के पेट में एक दो नहीं बल्कि पांच सुई छोड़ दी। जिसके बाद डॉक्टरों ने महिला के पेट से 2 सुई तो निकाल ली है, लेकिन 3 अभी भी महिला के पेट में हैं।

जानकारी के मुताबिक घटना बीएचयू के ही सर सुंदरलाल अस्पताल के प्रसूति विभाग की है। वहीं चंदौली की रहने वाली रीना द्विवेदी के पति विकास द्विवेदी ने बताया कि अपनी पत्नी की दोनों डिलीवरी बीएचयू अस्पताल में ही कराई थी। पहली डिलीवरी होने के बाद ही पत्नी के पेट में दर्द की शिकायत थी जिसका इलाज उसने कराया उसी के बाद दूसरे बेटे का जन्म भी बीएचयू में ही हुआ। इसके बाद उसने 10 फरवरी 2017 को पत्नी की नसबंदी कराने के लिए बीएचयू के प्रसूति विभाग में उसका ऑपरेशन कराया।

जिसके बाद पत्नी के पेट में दर्द की शिकायत रहने लगी। जिसते चलते उसने अपनी पत्नी को वापस प्रसूति विभाग की हेड को दिखाया। यहां जब महिला का एक्सरा किया गया तो सब चौंक गए। एक्सरे में पता चला कि महिला के पेट में डॉक्टर की लापरवाही से 5 सुई अन्दर ही रह गई हैं। पति ने आरोप लगाया कि यह पता चलते ही डाक्टर ने हमें धमकाया और चिकित्सालय के ही एक दूसरे डाक्टर के पास भेज दिया जिन्होंने मेरी पत्नी का ऑपरेशन किया।

पति ने बताया कि डॉक्टर ने पहले हमसे वादा किया कि वो सारी सुई निकाल देंगे पर उन्होंने सिर्फ 2 ही सुई निकाली और 3 पेट में ही छोड़ दी तथा हमें वहां से भगा दिया। इसके बाद मेरी पत्नी की तबियत खराब रहने लगी। हमने थक हारकर आज न्याय दिलाने की लंका थाने में तहरीर देकर गुहार लगाई है। वहीं लंका एसओ का कहना है कि तहरीर सीएमओ को भेजी गई है, जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी


 



UP HINDI NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन