सांस्कृतिक मेले में अश्लील डांस, मना करने के बावजूद भी चलता रहा कार्यक्रम

You Are Here
सांस्कृतिक मेले में अश्लील डांस, मना करने के बावजूद भी चलता रहा कार्यक्रमसांस्कृतिक मेले में अश्लील डांस, मना करने के बावजूद भी चलता रहा कार्यक्रमसांस्कृतिक मेले में अश्लील डांस, मना करने के बावजूद भी चलता रहा कार्यक्रम

कौशांबीःउत्तर प्रदेश सरकार में जिसका पिता डिप्टी सीएम हो और उस बेटे की बात प्रशासन न सुने तो ऐसे में सवाल उठना तो लाजमी ही है। जी हां ऐसा ही एक मामला डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के गृह जनपद कौशांबी में देखने को मिला है। जहां केशव के बेटे की दरख्वास्त को जिले के जिम्मेदार अधिकारियों ने ठेंगा दिखाया है।

दरअसल कौशांबी के पशु मेला मूरतगंज में इन दिनों सांस्कृतिक के नाम पर अश्लीलता से भरा प्रोग्राम किया जा रहा है। 19 सितंबर को मेला प्रबंधक के प्रार्थना पत्र पर एडीएम प्रशासन ने मेला में सांस्कृतिक प्रोग्राम चलाने की अनुमति दी थी। एडीएम प्रशासन द्वारा जारी किए गए अनुमति पत्र में यह शर्त है कि ढोल, नगाड़ा और हरमुनिया के ध्वनि पर सांस्कृतिक नृत्य किया जाए, लेकिन इसके बावजूद सांस्कृतिक नृत्य के नाम पर चल रहे इस प्रोग्राम में देर शाम ही फूहड़ गीतों पर अर्धनग्न बालाएं स्टेज पर थिरकती नजर आई।

केशव मौर्य के बेटे योगेश मौर्य ने जिम्मेदार अफसरों से अश्लील प्रोग्राम को बंद कराए जाने की दरख्वास्त की। योगेश ने डीएम, एसडीएम चायल, एसपी व कोखराज के थानेदार इन सभी को फोन कर अश्लील प्रोग्राम बंद कराने की गुहार लगाई, लेकिन अफसरों ने उसकी दरख्वास्त पर कोई ध्यान नहीं दिया।

योगेश ने आरोप लगाया है कि एसपी अशोक कुमार पांडेय, कोखराज थाना के इंचार्ज प्रदीप कुमार सिंह समेत मूरतगंज चौकी पुलिस भी थियेटर संचालको से मोटी रकम लेकर प्रोग्राम करवाने में लिप्त है। योगेश की गुजारिश के बाबत जिम्मेदार अफसरों से बात की तो उन्होने कुछ भी बोलने से मना कर दिया। ऐसे में सवाल उठना तो लाजमी है कि जब डिप्टी सीएम के बेटे की शिकायत को अफसरों द्वारा दरकिनार किया जाता है तो आम जनता को कैसे न्याय मिल पाता होगा।



UP HINDI NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!