शहीद प्रेमसागर के परिजनों से सीएम योगी ने की मुलाकात, दी आर्थिक मदद

  • शहीद प्रेमसागर के परिजनों से सीएम योगी ने की मुलाकात, दी आर्थिक मदद
You Are Here
शहीद प्रेमसागर के परिजनों से सीएम योगी ने की मुलाकात, दी आर्थिक मददशहीद प्रेमसागर के परिजनों से सीएम योगी ने की मुलाकात, दी आर्थिक मददशहीद प्रेमसागर के परिजनों से सीएम योगी ने की मुलाकात, दी आर्थिक मदद

देवरियाः जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की बर्बर कार्रवाई में शहीद हुए बीएसएफ के हेड कॉन्स्टेबल प्रेमसागर के घर सीएम योगी आदित्यनाथ पहुंचे। जहां उन्होंने शहीद के परिवार से मुलाकात कर उनका ढ़ांढस बधाया। देवरिया में शहीद के परिवार से मिलने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ गोरखनाथ मंदिर पहुंचे जहां उन्होंने पूजा अर्चन की और साथ ही मीडिया से बात भी की।

शहीद के परिवार को दी आर्थिक मदद
सीएम योगी ने कहा कि पीड़‍ित परिजनों को 4 लाख रुपए का चेक दिया गया है। इसके साथ ही उन्होंने शहीद के परिवार वालों को 2 लाख रुपए की एफडी भी दी। इस मौके पर योगी ने कहा कि यूपी सरकार की तरफ से शहीद परिवार को 26 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी गई है, साथ ही शहीद के नाम पर एक बालिका विद्यालय खोला जाएगा, शहीद का स्मारक और मूर्ति लगाई जाएगी, वहीं गांव की सड़कों को शहीद के नाम पर किया जाएगा।

नसीमुद्दीन की सुरक्षा पर दिया ये बयान
मुख्यमंत्री योगी ने कानून व्यवस्था के मुद्दे पर कहा आदत धीरे-धीरे बदलती है, जो नहीं बदल रहे हैं उन्हे सुधार दिया जाएगा, साथ ही नसीमुद्दीन सिद्दीकी के मुद्दे पर कहा कि सूबे का जो भी व्यक्ति सुरक्षा मांगेगा उसे सुरक्षा प्रदान की जाएगी, वो किसी राजनीतिक दल के आपसी मुद्दे पर नहीं पड़ेंगे, साथ ही कहा कि जो विवाद आज मायावती और नसीमुद्दीन सिद्दीकी के बीच हुआ है उससे कांशीराम की आत्मा को दुख पहुंचा होगा।

सीएम योगी के आश्वासन के बाद हुआ था अंतिम संस्कार
गौरतलब है कि सांभा से शहीद का पार्थिव शरीर उनके गांव भाटपाररानी क्षेत्र के टीकमपार लाए जाने पर परिवार के लोगों के साथ ही क्षेत्रीय लोगों ने मुख्यमंत्री को गांव में बुलाने की मांग की थी और यह भी कहा था कि जब तक मुख्यमंत्री नहीं आएंगे वे शहीद का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। इस मामले की गम्भीरता देख गांव में मौजूद कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने मोबाइल फोन पर मुख्यमंत्री से परिवार के लोगों की बात कराई। उनसे बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 12 दिन के अंदर शहीद के घर आने का आश्वासन दिया था।


 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!