नौकरी दिलाने के नाम पर BSA अधिकारी ने मांगी रिश्वत

  • नौकरी दिलाने के नाम पर BSA अधिकारी ने मांगी रिश्वत
You Are Here
नौकरी दिलाने के नाम पर BSA अधिकारी ने मांगी रिश्वतनौकरी दिलाने के नाम पर BSA अधिकारी ने मांगी रिश्वतनौकरी दिलाने के नाम पर BSA अधिकारी ने मांगी रिश्वत

सहारनपुरः सहारनपुर में बीएसए कर्मचारी पर रिश्वत लेने का आरोप लगाकर एक युवक ने कलैक्ट्रेट में हंगामा कर दिया। जिसके बाद पूरा मामले में गहनता से जांच की गई और जांच में दोषी पाए गए बी.एस.ए अधिकारी को शपथ पत्र में लिखकर रिश्वत लेने की बात को कबूलना पड़ा।

जानकारी के मुताबिक मनोज कुमार पुत्र सुखपाल सिंह निवासी साल्हापुर नकुड़ की जनवरी माह में बेसिक शिक्षा विभाग में कम्प्यूटर के पद पर तैनात कार्यरत आशीष जैन से मुलाकात हुई। आशीष जैन ने शिक्षा विभाग में सरकारी नौकरी दिलाने के लिए 1 लाख 30 हजार की रिश्वत मांगी। जिसके बाद लगातार संपर्क किया गया। 10 माह हो गए, लेकिन नौकरी नहीं लग पाई।

वहीं शुक्रवार को पीड़ित आशीष जैन के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर एस.एस.पी. कार्यालय पहुंचा जहां से वह कलैक्ट्रेट आया। यहां पीड़ित को पता लगा कि बेसिक कर्मचारी आशीष जैन यहीं एन.आई.सी. में काम कर रहा है तो उसे बुला लिया गया। बुलाने के बाद उसका पीड़ित पक्ष के लोगों ने घेराव कर लिया।

पीड़ित पक्ष का कहना है कि आशीष जैन ने सरकारी नौकरी दिलवाने के लिए जनवरी में 1 लाख 30 हजार रुपए लिए। हर कोई चाहता है कि सरकारी नौकरी लग जाए, इसलिए आशीष जैन को पीड़ित मनोज कुमार ने भी पैसे दे दिए।

कलैक्ट्रेट में काफी देर तक हंगामा चलता रहा। हंगामे की सूचना मिलते ही सदर थानाध्यक्ष यज्ञदत्त शर्मा भी मौके पर पहुंच गए। थानाध्यक्ष ने मामले की पूरी जानकारी ली। बाद में बी.एस.ए. अधिकारी आशीष जैन ने शपथ पत्र लिखकर पीड़ित से 1 लाख 30 हजार रुपए रिश्वत लेने की बात को स्वीकार किया। पीड़ित को कुछ पैसे वापस कर दिए गए हैं। अब बाकी रकम 1 दिसम्बर को वापस करने की बात आशीष जैन ने कही है। 
 



UP CRIME NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!