राष्ट्रपति चुनाव: राम नाथ कोविंद के बाद यूपी से एक और दलित उम्मीदवार ने भरा पर्चा

  • राष्ट्रपति चुनाव: राम नाथ कोविंद के बाद यूपी से एक और दलित उम्मीदवार ने भरा पर्चा
You Are Here
राष्ट्रपति चुनाव: राम नाथ कोविंद के बाद यूपी से एक और दलित उम्मीदवार ने भरा पर्चाराष्ट्रपति चुनाव: राम नाथ कोविंद के बाद यूपी से एक और दलित उम्मीदवार ने भरा पर्चाराष्ट्रपति चुनाव: राम नाथ कोविंद के बाद यूपी से एक और दलित उम्मीदवार ने भरा पर्चा

शाहजहांपुर(नंदलाल): भारत के राष्ट्रपति पद के लिए अब यूपी से दो दलित उम्मीदर होंगे क्योंकि यूपी के शाहजहांपुर में वैद्यराज किशन नाम के बैध ने भी राष्ट्रपति पद के लिए पर्चा दाखिल किया है। बैधराज किशन अब तक 12 बार निर्दलीय चुनाव लड़ चुके हैं। राष्ट्रपति पद के लिए जीत का दावा करने वाले बैधराज किशन का कहना है कि देश का राष्ट्रपति किसी पार्टी से ना होकर सामाजिक क्षेत्र से होना चाहिए।

यूपी के शाहजहांपुर के रहने वाले बैधराज किशन पेशे से वैद्य हैं जो लोगों की बीमारियों को निशुल्क इलाज करते है। दलित समाज से ताल्लुक रखने वाले बैधराज किशन इस बार राष्ट्रपति के उम्मीदरवार होंगे। बैधराज किशन ने इसी महीने की 15 तारीख को अपना सबसे पहला पर्चा भी दाखिल कर दिया और अपना दूसरा सेट वो कल दालिख करेंगे। 27 साल के बैधराज किशन अब तक एमएलए, एमएलसी और एमपी के 12 बार चुनाव लड़ चुके हंै लेकिन उन्हें किसी भी चुनाव में अबतक जीत नहीं हासिल हुई है। उन्हें चुनाव लडऩे का शौक हैं। इस बार वो देश का सबसे सम्मानजनक और सबसे बड़ा राष्ट्रपति का चुनाव लडऩे की तैयारी कर रहे हैं।

बैधराज किशन का कहना है अक्सर केन्द्र में सत्तारूढ़ पार्टियां ही अपना उम्मीवार राष्ट्रपति पद के लिए तय करती हैं जो कि राजनीति से जुड़ा होता है। मेरा मानना है कि राष्ट्रपति सामाजिक क्षेत्र से चुना जाना चाहिए। कई बार अलग अलग सदनों के लिए निर्दलीय चुनाव लड़ चुके वैद्यराज किशन पूरे जनपद में अपनी अलग पहचान के लिए जाने जाते हैं। हालांकि अभी तक उन्होंने कभी कोई जीत हासिल नहीं की। लेकिन इस बार उन्हें पूरा भरोसा है कि जीत उन्हीं की होगी।

गौरतलब है कि एनडीए ने यूपी से श्रीराम नाथ कोबिन्द को राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के तौर पर उनके नाम की अधिकारिक घोषणा कर दी है। लेकिन बैधराज किशन अब यूपी से दूसरे दलित उम्मीदवार के तौर पर राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार होंगें। उनकी जीत होगी, इस उम्मीद के साथ उनका कहना है कि राष्ट्रपति राजनैतिक क्षेत्र से नहीं है।

UP NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!