ताजनगरी में रुके थे डॉ. अम्बेडकर, लाखों की जनसभा में बयां किया था ये दर्द...

  • ताजनगरी में रुके थे डॉ. अम्बेडकर, लाखों की जनसभा में बयां किया था ये दर्द...
You Are Here
ताजनगरी में रुके थे डॉ. अम्बेडकर, लाखों की जनसभा में बयां किया था ये दर्द...ताजनगरी में रुके थे डॉ. अम्बेडकर, लाखों की जनसभा में बयां किया था ये दर्द...ताजनगरी में रुके थे डॉ. अम्बेडकर, लाखों की जनसभा में बयां किया था ये दर्द...

आगरा(गौरव): 18 मार्च 1956 को डॉ. भीमराव अम्बेडकर आगरा में आए थे। यहां उन्होंने आगरा किला मैदान पर विशाल जनसभा को संबोधित किया। लाखों की भीड़ बाबा साहब को सुनने के लिए उमड़ी हुई थी। बाबा साहब ने जब कहा, कि मुझे तो शिक्षितों ने धोखा दिया है। उन्होंने कहा कि वे चाहते थे कि समाज के ये शिक्षित लोग समाज के उत्थान के लिए काम करेंगे, लेकिन शिक्षित होने के बाद ये लोग अपने और अपने परिवार के उत्थान में जुट गए। 

                    PunjabKesari

बौद्ध बिहार चक्की पाट के भदंत ज्ञानरत्न महाथेरो ने बताया कि बाबा साहब ने इस विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि समाज के लिए बड़ी मुश्किल से ये कारवां बनाया है। समाज में जागृति पैदा की है, उनके अधिकारों के लिए लड़ाई शुरू की है। उन्होंने कहा कि मैं जिस तम्बू के नीचे खड़ा हूं, उसका बम्बू निकल जाए, तो क्या होगा। उन्होंने कहा था कि समाज के शिक्षित लोग अपने और अपने परिवारों के बारे में ही नहीं सोचें, बल्कि सोचें उस समाज के बारे में भी, जहां से वे आए हैं, तभी सफलता मिल सकेगी। इस सभा के बाद बाबा साहब शाम तक आगरा में रुके। 

इस कार्यक्रम की अगुवाई कर रहे चक्की पाट के शंकरानंद शास्त्री ने आग्रह किया, जिसके बाद बाबा साहब ने चक्की पाट पर बौद्ध प्रतिमा स्थापित की, तभी से बाबा साहब का नाम इस स्थल से जुड़ गया। इसके बाद अशोक विजय दशमी पर बाबा साहब को नागपुर में भदंत चन्द्रमणि ने बौद्ध दीक्षा ग्रहण कराई। बाबा साहब के साथ पांच लाख लोगों ने यह दीक्षा ग्रहण की।

UP News की अन्य खबरें पढ़ने के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You