Subscribe Now!

उत्तराखंड: विद्यार्थियों का कमाल, एफटीआईआई से प्रशिक्षण लेकर बनाई तीन फिल्में

  • उत्तराखंड: विद्यार्थियों का कमाल, एफटीआईआई  से प्रशिक्षण लेकर बनाई तीन फिल्में
You Are Here
उत्तराखंड: विद्यार्थियों का कमाल, एफटीआईआई  से प्रशिक्षण लेकर बनाई तीन फिल्मेंउत्तराखंड: विद्यार्थियों का कमाल, एफटीआईआई  से प्रशिक्षण लेकर बनाई तीन फिल्मेंउत्तराखंड: विद्यार्थियों का कमाल, एफटीआईआई  से प्रशिक्षण लेकर बनाई तीन फिल्में

रुद्रप्रयाग/ब्यूरो। यह पहला मौका है, जब भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) पुणे ने उत्तराखंड के नौनिहालों की प्रतिभा को पहचाना और उन्हें फिल्म बनाने का प्रशिक्षण दिया। दस दिवसीय फिल्म निर्माण प्रशिक्षण के दौरान जवाहर विद्यालय जाखधार के विद्यार्थियों ने न केवल तीन फिल्में बनाईं, बल्कि उन फिल्मों में अभिनय भी किया।

 

भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान, पुणे के तत्वावधान में आयोजित 10 दिवसीय फिल्म निर्माण प्रशिक्षण में जवाहर नवोदय विद्यालय जाखधार के छात्रों ने तीन फिल्में बनाकर यह साबित कर दिया कि पर्वतीय राज्य उत्तराखंड के जनपदों में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है।

एफटीआईआई के प्रशिक्षण कार्यक्रम के उद्देश्यों को जवाहर नवोदय विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने बखूबी अंजाम दिया। छात्रों के निर्देशन में ‘स्वच्छता', 'अतिथि देवो भवः’ सहित तीन फिल्में बनाई गईं। इन फिल्मों में 18 छात्र-छात्राओं ने अभिनय भी किया।

 

प्रशिक्षण के बाद एफटीआईआई के डायरेक्टर भूपेंद्र कैंतुरा ने स्वीकार किया कि पहाड़ की आत्मा में कला बसी है। यहां प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है। बस, इन प्रतिभाओं को उचित संसाधनों और अवसरों की जरूरत है। यहां के लोग कला और अभिनय में बहुत आगे जा सकते हैं। इनके भीतर कला छिपी हुई है। इन प्रतिभाशाली लोगों को अपनी कला के प्रदर्शन के लिए न तो उचित मंच मिल पाता है और न ही अवसर।

ऐसे में भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान, पुणे की यह अभिनव पहल कामयाब होती है, तो यहां से कई सितारे फिल्म निर्माण और अभिनय में अपनी चमक बिखेर सकते हैं।

इस क्षेत्र में न केवल रोजगार, बल्कि नाम भी कमा सकते हैं। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने छात्र-छात्राओं द्वारा बनाई गई फिल्मों को देखने के बाद उनके अभिनय की खूब सराहना की। एफटीआई से आए अधिकारियों को उन्होंने धन्यवाद भी दिया।




अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन