Subscribe Now!

सुपर 100 का MoU हुआ साइन, प्रशिक्षण के लिए प्रतिवर्ष 2.50 करोड़ की धनराशि होगी खर्च

You Are Here
सुपर 100 का MoU हुआ साइन, प्रशिक्षण के लिए प्रतिवर्ष 2.50 करोड़ की धनराशि होगी खर्चसुपर 100 का MoU हुआ साइन, प्रशिक्षण के लिए प्रतिवर्ष 2.50 करोड़ की धनराशि होगी खर्चसुपर 100 का MoU हुआ साइन, प्रशिक्षण के लिए प्रतिवर्ष 2.50 करोड़ की धनराशि होगी खर्च

देहरादून(कुलदीप रावत): उत्तराखंड सरकार की अनोखी पहल पर राज्य के गरीब परिवारों के होनहार बच्चे अब प्रतिष्ठित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों और अन्य प्रमुख इंजीनियरिंग काॅलेजों में शिक्षा प्राप्त करने का सपना देख सकेंगे। ऐसे विद्यार्थियों के लाभान्वित करने के लिए मंगलवार को न्यू केंट रोड स्थित जनता मिलन हॉल में समारोह का आयोजन किया गया। 
PunjabKesari
इस समारोह में उत्तराखंड सरकार, गेल लिमिटेड और सेंटर फॉर सोशल रिस्पांसबिलिटी एंड लीडरशिप के बीच कुमाऊं और गढ़वाल मंडल के अल्मोड़ा और श्रीनगर में गेल उत्कर्ष सुपर 100 के दो केंद्र स्थापित करने में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन का आदान-प्रदान किया गया। 
PunjabKesari
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत और गेल के प्रबंधक निदेशक बी.सी त्रिपाठी की उपस्थिति में इस समझौता ज्ञापन पर गेल की कार्यकारी निदेशक बंदना चानना तथा सेंटर फॉर सोशल रिस्पांसबिलिटी एंड लीडरशिप के निदेशक एस.के शाही द्वारा हस्ताक्षर किए गए। 
PunjabKesari
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने गेल उत्कर्ष सुपर 100 की शुरुआत के लिए गेल के सीएमडी का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि राज्य के मेधावी छात्रों को उच्च तकनीकी संस्थानों में प्रवेश हेतु प्रशिक्षण के लिए गेल द्वारा प्रतिवर्ष 2.50 करोड़ की धनराशि खर्च की जाएगी। इसके साथ-साथ उच्च तकनीकी संस्थानों में प्रवेश पाने वाले छात्रों को 5 हजार हर महीने छात्रवृति दिया जाना निश्चित रूप से एक सराहनीय प्रयास है।   
 




अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन