दरोगा की कथित पिटाई से गर्भवती महिला की मौत

  • दरोगा की कथित पिटाई से गर्भवती महिला की मौत
You Are Here
दरोगा की कथित पिटाई से गर्भवती महिला की मौतदरोगा की कथित पिटाई से गर्भवती महिला की मौतदरोगा की कथित पिटाई से गर्भवती महिला की मौत

लखनऊ: पुलिस की कार्यशैली पर एक बार फिर सवाल खड़ा हो गया है। ताजा घटना फर्रूखाबाद की है। घर के बाहर मिट्टी डाल रहे युवक को अवैध खनन का आरोप लगा दारोगा ने जमकर पीटा। अपने पति को दरोगा से बचाने आई गर्भवती पत्नी को भी दरोगा ने लात मार दी। जिससे महिला की हालत बिगडऩे लगी। जिसके बाद दारोगा मौके से भाग गया। पीड़िता को लखनऊ के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया, वहां सोमवार को उसकी मौत हो गई। हालांकि महिला की मौत दारोगा की पिटाई से हुई इस आरोप से शाम होते-होते परिवारीजन ने आश्चर्य रूप से इन्कार कर दिया। इसके पीछे वजह पुलिस का भय माना जा रहा है। हालांकि ग्र्राम प्रधान इस घटना की पुष्टि कर दारोगा का क्षेत्र में आतंक बता रहे हैं।

यह है मामला
फतेहगढ़ कोतवाली क्षेत्र के गांव आतंर निवासी राजकुमार रविवार की शाम को अपने घर के बाहर मिट्टी डाल रहे थे, तभी एक दारोगा ने मिट्टी का अवैध खनन का आरोप लगाकर राजकुमार को पीटना शुरू कर दिया। 
राजकुमार भागकर घर में घुस गए, दारोगा ने घर में भी घुसकर राजकुमार को पीटना शुरू कर दिया। इस बीच बचाने आई उसकी पत्नी राजकुमारी (35) को भी दरोगा ने अपना कोप भाजन बना दिया। महिला पर भी लात-घूंसों की बरसात कर दी। इससे गर्भवती राजकुमारी गंभीर रूप से घायल हो गई। ग्रामीणों के आ जाने व महिला की हालत बिगड़ते देख दारोगा मौके से खिसक गया। परिजन घायल महिला को इलाज के लिए फर्रूखाबाद ले गए। हालत गंभीर होने के कारण वहां से चिकित्सकों ने राजकुमारी को लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया। सोमवार को राजकुमारी की इलाज के दौरान मौत हो गई। मंगलवार सुबह शव पहुंचते ही घर में कोहराम मच गया।

दारोगा का क्षेत्र में आतंक
ग्राम प्रधान कर्णवीर सिंह ने बताया कि दारोगा का क्षेत्र में आतंक है। आए दिन ग्रामीणों से मारपीट की जाती है। दारोगा की पिटाई की वजह से महिला की मौत हो गई। पुलिस के धमकाने से परिजन भयभीत हैं और कार्रवाई के भय से खामोश हैं। पीड़ित परिवार काफी गरीब है। पुलिस के डर से बिना कार्रवाई किए ही परिजनों ने शव का दाह संस्कार कर दिया। राजकुमार ने बताया कि महिला छह माह की गर्भवती थी। उसके एक पुत्री रूचि (12), दो पुत्र शोभित (6) व अर्पित (2) हैं। उसने पुलिस पिटाई से पत्नी की मृत्यु होने की बात स्वीकार नहीं की। अपर पुलिस अधीक्षक त्रिभुवन सिंह ने बताया कि दारोगा द्वारा पीटे जाने का आरोप गलत है। महिला बीमारी के कारण अस्पताल में भर्ती थी। इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई। शिकायत मिली तो जांच कर कार्रवाई की जाएगी।
 



अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन