रक्षाबंधनः भाई-बहन के पवित्र रिश्ते का त्याैहार

You Are Here
रक्षाबंधनः भाई-बहन के पवित्र रिश्ते का त्याैहाररक्षाबंधनः भाई-बहन के पवित्र रिश्ते का त्याैहाररक्षाबंधनः भाई-बहन के पवित्र रिश्ते का त्याैहार

लखनऊः त्यौहार परिवार में प्यार और खुशियां बढ़ाने के लिए मनाये जाते हैं। राखी का त्यौहार भी ऐसे ही त्यौहार में से एक है। यह भाई और बहन के रिश्ते का त्यौहार है।हिन्दू कैलेंडर के अनुसार श्रावण मास में पूर्ण चन्दंमा की रात को राखी पूर्णिमा मनाई जाती है। झारखंण्ड बिहार,मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में रक्षा बंधन को श्रावणी ये कजरी पूर्णिमा भी कहते है।

रक्षाबंधन के दिन ये त्यौहार गुजरात में पवित्रपना के नाम से मनाया जाता है।रक्षाबंधन के दिन लोग भगवान शिव की पूजा अर्चना करते हैं। बहुत से शहरों में मेला लगता है,जहां सुंदर राखियाँ बेची जाती हैं और बहनें अपने भाईयों के लिए पसंदीदा राखी खरीदती है। कुछ लड़कियाँ अपने भाईयों के लिए घर पर ही अपने हाथों से राखी बनाती हैं।भारत में मनाये जाने वाले दुसरे त्यौहारों की तरह ही रक्षाबंधन भी बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। राखी का त्यौहार भाई बहन के बीच के रिश्ते को और मजबूत बनाता है।

रक्षाबधंन भाई बहन के बीच के प्यार को न केवल बढ़ाता है बल्कि भाई का भी यह कर्तव्य बनता है कि वह अपनी बहन की हमेशा रक्षा करे। बहन भी राखी के दिन अपने भाई के अच्छे सफल और सुरक्षित भविष्य की कामना करती है। भाई बहन की हर परिस्थिति में रक्षा करने का वचन देता है। इससे एक स्वस्थ्य पारिवारिक रिश्ते का निर्माण हाेता है। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!