तीन तलाक मुस्लिम महिलाओं के लिए पीड़ादायक: रीता बहुगुणा

  • तीन तलाक मुस्लिम महिलाओं के लिए पीड़ादायक: रीता बहुगुणा
You Are Here
तीन तलाक मुस्लिम महिलाओं के लिए पीड़ादायक: रीता बहुगुणातीन तलाक मुस्लिम महिलाओं के लिए पीड़ादायक: रीता बहुगुणातीन तलाक मुस्लिम महिलाओं के लिए पीड़ादायक: रीता बहुगुणा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की महिला एवं परिवार कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि तीन तलाक मुस्लिम महिलाओं के लिए पीड़ादायक है और राज्य सरकार मुस्लिम महिलाओं की राय के आधार पर उच्चतम न्यायालय में उनका पक्ष रखेगी। रीता जोशी ने राज्य सरकार के संकल्प पत्र-2017 के अनुसार महिलाओं की सुरक्षा के अन्तर्गत तीन तलाक के संबंध में मुस्लिम महिलाओं की राय प्राप्त किए जाने की प्रक्रिया पर विचार-विमर्श के लिए आयोजित बैठक में बोल रही थीं।

उन्होंने कहा कि महिला किसी भी जाति-धर्म की हो शिक्षा, सुरक्षा और सामाजिक बराबरी उसकी आवश्यकता ही नहीं, उसका अधिकार भी है। समाज की सभी पीड़ित महिलाओं को सहायता प्रदान करने के लिए राज्य सरकार रानी लक्ष्मीबाई सम्मान कोष का दायरा बढ़ाने पर विचार करेगी। जोशी ने कहा कि कई देशों में मुस्लिम समाज में तीन तलाक की यह प्रक्रिया नहीं है। उच्चतम न्यायालय में इस पर विचार हो रहा है।

उत्तर प्रदेश सरकार मुस्लिम महिलाओं की राय के आधार पर उनका पक्ष उच्चतम न्यायालय में रखेगी। उन्होंने कहा अवांछित रूप से दिया गया तलाक किसी भी धर्म-समुदाय की महिला के लिए पीड़ादायक है। तलाक के कारण महिलाओं के सामने स्वयं के भरण-पोषण, बच्चों के लालन-पालन, शिक्षा-दीक्षा आदि की समस्यायें खड़ी हो जाती हैं। महिलाएं बेसहारा की स्थिति में भी आ जाती हैं। तीन तलाक की पीड़ा को झेल रही मुस्लिम महिलाएं आज खुलकर इस दर्द को बयां कर रही हैं।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!