स्कूल में लड़के-लड़कियों की इस हरकत से परेशान होकर पंचायत ने किया यह एेलान

  • स्कूल में लड़के-लड़कियों की इस हरकत से परेशान होकर पंचायत ने किया यह एेलान
You Are Here
स्कूल में लड़के-लड़कियों की इस हरकत से परेशान होकर पंचायत ने किया यह एेलानस्कूल में लड़के-लड़कियों की इस हरकत से परेशान होकर पंचायत ने किया यह एेलानस्कूल में लड़के-लड़कियों की इस हरकत से परेशान होकर पंचायत ने किया यह एेलान

बागपत: उत्तर प्रदेश में बागपत जिले में हुई एक पंचायत में ऐलान किया गया कि लड़के-लड़कियां स्कूल में मोबाइल फोन नहीं रखेंगे। तेड़ा सतगामा क्षेत्र के आर्य विद्यालय इंटर कालेज में आस-पास के 6 गांवों की पंचायत में निर्णय लिया गया कि अब स्कूलों में लड़कियों के साथ लड़के भी मोबाइल नहीं रख सकेंगे। इसके अलावा पंचायत में कन्या भ्रूण हत्या रोकने के लिए कठोर कदम उठाए जाने की मांग की गई।

पंचायत ने तय किया कि जो भी व्यक्ति उसके निर्णयों के विरुद्ध काम करेगा उसका सामाजिक बहिष्कार होगा और कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। पंचायत में वक्ताओं ने कहा कि इस समय क्षेत्र में लिंगानुपात में कमी आ रही है जिसका कारण कन्या भ्रूण हत्या है इसको रोकने के लिए जागरूकता अभियान चलाने और ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ के नारे पर जोर दिया गया। पंचायत में तय किया गया कि यदि कोई भी व्यक्ति कन्या भ्रूण हत्या में लिप्त पाया गया तो उसका सामाजिक बहिष्कार होगा। इतना ही नहीं उस व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी अमल में लाई जाएगी।

पंचायत में विद्यालय की प्रबंध समिति को बहाल करने की दिशा में भी चर्चा की गई जिसके लिए 7 सदस्य समिति का गठन किया गया जिसमें तेडा गांव निवासी प्रदीप कुमार को सर्वसम्मति से विद्यालय प्रबंध समिति का प्रबंधक चुना गया। पंचायत की अध्यक्षता तितरौदा निवासी अमर सिंह ने की। पंचायत में बडी संख्या में लोग मौजूद रहे। गौरतलब है कि ग्रामीणों का मानना है कि स्कूल में पढ़ने वाले छात्र-छात्रा मोबाइल का दुरुपयोग करते हैं और स्कूल के समय बाहर निकल जाते हैं जिसके कारण पंचायत ने यह एेलान किया।



UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!