Subscribe Now!

विधान परिषद में घिरी बीजेपी सरकार, नोएडा की 3 घटनाओं की CBI जांच के निर्देश

You Are Here
विधान परिषद में घिरी बीजेपी सरकार, नोएडा की 3 घटनाओं की CBI जांच के निर्देशविधान परिषद में घिरी बीजेपी सरकार, नोएडा की 3 घटनाओं की CBI जांच के निर्देशविधान परिषद में घिरी बीजेपी सरकार, नोएडा की 3 घटनाओं की CBI जांच के निर्देश

लखनऊः यूपी विधान परिषद में बुधवार को सभापति रमेश यादव ने राज्य सरकार को नोएडा की 3 घटनाओं की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने के निर्देश दिए। शून्य प्रहर में समाजवादी पार्टी सदस्य एवं नेता विरोधी दल अहमद हसन, डा. संजय लाठर, आनंद भदौरिया एवं अन्य सदस्यों ने कानून-व्यवस्था का मामला उठाते हुए नोएडा, मथुरा और बागपत समेत 5 स्थानों पर की गई मुठभेड़ को फर्जी करार देते हुए उनकी जांच सीबीआई से कराने की मांग की।

इसके अलावा इसी मुद्दे पर कांग्रेस के दिनेश सिंह और दीपक सिंह ने सूचना दी। दिनेश सिंह ने कहा कि प्रदेश में कानून-व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है। उन्होंने नोएडा समेत अन्य घटनाओं की उच्च न्यायालय के न्यायाधीश से जांच कराने की मांग की। सूचना की ग्राह्यता पर बल देते हुए अहमद हसन, संजय लाठर, जितेन्द्र यादव और नरेन्द्र भाटी ने अपने विचार व्यक्त किए।

संजय लाठर ने कहा कि नोएडा में 3 फरवरी की रात जितेन्द्र यादव अपनी बहन का लग्न देने के बाद अन्य लोगों के साथ नोएडा सेक्टर-122 के श्रमिक चौक पर कार से रिश्तेदारों को उतार रहा था। उसी समय पुलिस उपनिरीक्षक अन्य पुलिसकर्मियों के साथ वहां आया और जबरन पुलिस वाहन में बैठाने लगा। विरोध करने पर उसे गोली मार दी। इसके अलावा बागपत में सुमित गुर्जर के अलावा मथुरा में 3 फर्जी मुठभेड़ हुई, जिसमें बालक की भी मौत हुई। पुलिस फर्जी मुठभेड़ कर बेगुनाह लोगों को गोली मार रही है। उन्होंने दावा किया कि अब तक प्रदेश में 1142 मुठभेड़ हुई है।

नेता विपक्ष हसन ने कहा कि प्रदेश में जुल्म और ज्यादती की ऐसी मिसाल इससे पहले नहीं देखी गई। मथुरा में कैबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण के पेट्रोल पम्प पर लूट और उनके रिश्तेदार की हत्या हो गई तो आम आदमी का क्या हाल होगा। अपराधियों को सरकार का सरंक्षण प्राप्त है और पुलिस का आचरण भी अच्छा नहीं है। वह फर्जी मुठभेेड़ कर अपराध काबू करना चाहती है। जनता को सुरक्षा देना सरकार का काम है। सरकार के सामने जो लोग अपनी तकलीफ लेकर आते हैं उन्हें पुलिस लाठी और गोली मारती है। जनता का विश्वास सरकार और पुलिस से उठ गया है।

नरेन्द्र भाटी ने कहा कि बागपत के सुमित गूजर के खिलाफ कोई आपराधिक मामला नहीं था और पुलिस ने उसे फर्जी मुठभेड़ में मार गिराया। प्रदेश में बदमाश भयभीत नहीं बल्कि शरीफ लोग दहशत में हैं। पुलिस जाति विशेष के लोगों को मुठभेड़ के नाम पर मार रही है। पुलिसकर्मी प्रमोशन पाने के लिए फर्जी मुठभेड़ कर रहे हैं। नोएडा में पुलिस पर जिम ट्रेनर को गोली मारने का आरोप लगाा। सरकार बदले की भावना से काम कर रही है। 



UP POLITICAL NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन