Subscribe Now!

मुस्लिम महिलाआें ने उठाई आवाज, कहा- तीन तलाक पर हाे इतने साल की सजा

You Are Here
मुस्लिम महिलाआें ने उठाई आवाज, कहा- तीन तलाक पर हाे इतने साल की सजामुस्लिम महिलाआें ने उठाई आवाज, कहा- तीन तलाक पर हाे इतने साल की सजामुस्लिम महिलाआें ने उठाई आवाज, कहा- तीन तलाक पर हाे इतने साल की सजा

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में मुस्लिम महिलाओं ने तीन तलाक के समर्थन में एक सभा का आयोजन किया। इस सभा में मुस्लिम महिलाओं ने केंद्र सरकार का आभार व्यक्त करते हुए तीन तलाक के कानून में 3 से 7 साल तक की सजा का प्रावधान करने की मांग की है।

इस संबंध में मुस्लिम महिला फाउंडेशन की अध्यक्ष नाज़नीन अंसारी ने कहा कि पीएम मोदी की महिलाओं को तीन तलाक के जहन्नुम से आजादी का कानून आज संसद में पेश हुआ है। उन्होंनें कहा कि हमारी सरकार से मांग है कि इस कानून में जो सजा का प्रावधान है उसे बढ़ा दिया जाए। तीन तलाक के लिए सरकार ने 3 साल की सजा तय की है, लेकिन हमारी और मुस्लिम महिलाओं की मांग है कि इस सजा को बढ़ाकर 7 साल कर दिया जाए।

उन्होंने कहा कि तीन तलाक के अपराधी को 200 कोड़े मारे जाएं। इतना ही बल्कि इसका समर्थन करने वाले को भी जेल भेजा जाए। इसके साथ ही महिलाओं को संपत्ति में आधा हिस्सा मिले, ताकि वह अपनी और अपने बच्चों की जिंदगी को अच्छे से गुजार सके। उन्होंने कहा कि हमारी पीएम मोदी से बस यही मांग हैंँ।

बता दें कि केंद्र सरकार ने गुरुवार को मुस्लिम समाज में प्रचलित तीन तलाक को रोकने संबंधित मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक (ट्रिपल तलाक) को आज लोकसभा में पेश किया है। इस बिल में तीन तलाक देने पर 3 साल तक की सजा का प्रावधान है। 



UP SAMACHAR की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-
अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन