Subscribe Now!

'इस महीने में इंसेफ्लाइटिस से मौतें होती ही हैं, लेकिन BRD मुद्दे को षडयंत्र के तहत उछाला गया'

  • 'इस महीने में इंसेफ्लाइटिस से मौतें होती ही हैं, लेकिन BRD मुद्दे को षडयंत्र के तहत उछाला गया'
You Are Here
'इस महीने में इंसेफ्लाइटिस से मौतें होती ही हैं, लेकिन BRD मुद्दे को षडयंत्र के तहत उछाला गया''इस महीने में इंसेफ्लाइटिस से मौतें होती ही हैं, लेकिन BRD मुद्दे को षडयंत्र के तहत उछाला गया''इस महीने में इंसेफ्लाइटिस से मौतें होती ही हैं, लेकिन BRD मुद्दे को षडयंत्र के तहत उछाला गया'

गोरखपुरः गोरखपुर एक एेसे जिले का नाम जहां से प्रदेश को सीएम मिला, लेकिन विगत एक महीने से यह जिला मासूमों की मौत का कब्रगाह कहला रहा है। बीआरडी मेडीकल कॉलेज में हुई 290 बच्चों की मौत पर जहां जमकर राजनीति हुई, वहीं केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री ने इसे फिर से सुलगा दिया है। बता दें मंत्री जी गोरखपुर में एक प्रेस कांफ्रेंस कर रहे थे, जहां पर उन्होंने फिर से सुलग रही आग को हवा दी है।

इस दौरान एक सवाल पर मंत्री शिवप्रताप शुक्ला ने कहा कि यह एक एेसा महीना है, जिसमें इंसेफ्लाइटिस से मौते होती है, लेकिन एक षड्यंत्र के तहत इसे मुद्दा बनाकर पेश किया गया है। विरोधी पार्टियों पर इशारों-इशारों में हमला बोलते हुए मंत्री ने कहा कि बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हुई बच्चों की मौत इंसेफ्लाइटिस से हुई थी जोकि इस महीने में होती ही, लेकिन उसे राजनीति वातावरण को प्रभावित करने के लिए प्रयोग किया गया।

वहीं गोरखपुर में आई भीषण बाढ़ पर उन्होंने कहा कि इस पर कोई नई योजना नहीं है यह प्राकृतिक आपदा थी। जिस पर मीडिया और समाज के लोगों ने तत्परता दिखाई। वहीं उन्होंने बताया कि पूर्वांचल के लोगों के लिए मुख्यमंत्री जी ने और प्रधानमंत्री जी ने प्रेम गौर फर्टिलाइजर दिया है।

वहीं अखिलेश यादव द्वारा श्वेत पत्र को झूठा करार करने के सवाल पर कहा कि वह भी मुख्यमंत्री रहे हैं। जिस तरह की भाषा का वो प्रयोग कर रहे हैं, उस तरह से मैं नहीं कर पाऊंगा।



UP HINDI NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन