हिंदू-मुस्लिम भाईचारे की मिसालः रमजान के दौरान लाउडस्पीकर का कर रहे विरोध

  • हिंदू-मुस्लिम भाईचारे की मिसालः रमजान के दौरान लाउडस्पीकर का कर रहे विरोध
You Are Here
हिंदू-मुस्लिम भाईचारे की मिसालः रमजान के दौरान लाउडस्पीकर का कर रहे विरोधहिंदू-मुस्लिम भाईचारे की मिसालः रमजान के दौरान लाउडस्पीकर का कर रहे विरोधहिंदू-मुस्लिम भाईचारे की मिसालः रमजान के दौरान लाउडस्पीकर का कर रहे विरोध

बरेलीः अक्सर देखा जाता है कि हिंदू मुस्लिम एक दूसरे के आमने-सामने खड़े है लेकिन बरेली के प्रेमनगर में कुछ हिंदू और मुस्लिमों मे मिलकर भाईचारे की अनोखी मिसाल पेश की है। एक साथ हो गए है इन लोगों ने सहरी की नमाज के समय लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करने का विरोध किया और इसकी शिकायत को लेकर प्रशासन के पास पहुंचे है।

दरअसल बरेली के प्रेमनगर में कुल 7 मस्जिदें है और सभी मस्जिदों में लाउडस्पीकर का इस्तेमाल किया जाता है। प्रशासन को शिकायत मिलने के बाद इसकी जांच के लिए मस्जिदों के मौलानाओं बातचीत की करने के लिए कह दिया है, जिसके बाद मस्जिदों को निर्देश दिए है कि वो लाउडस्पीकरों को उतार लें या फिर उनकी अवाज को बंद कर दें।

सुप्रीम कोर्ट की गाइडलांस है कि रात के 10 बजे से सुबह 6 बजे तक लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करना मना है। अनुच्छेद 21 के अनुसार कहा गया है कि शांति से सोना मौलिक अधिकार है, सोने में खलल देना प्रताड़ना के समान है। यह मानवाधिकार उल्लंघन में आता है।

UP NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!