आदमखोर बाघ का कहर जारी, वनकर्मी को बनाया अपना शिकार

You Are Here
आदमखोर बाघ का कहर जारी, वनकर्मी को बनाया अपना शिकारआदमखोर बाघ का कहर जारी, वनकर्मी को बनाया अपना शिकारआदमखोर बाघ का कहर जारी, वनकर्मी को बनाया अपना शिकार

पीलीभीत(विकास सक्सेना): उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में टाइगर रिजर्व क्षेत्र के माला रेंज में बाघ ने ड्यूटी के दौरान एक संविदा वनकर्मी को अपना शिकार बना लिया। उसके शरीर के कुछ अवशेष बरामद होने से वन अधिकारियों में हड़कम्प मच गया।

प्रभागीय वनाधिकारी टाइगर रिजर्व कैलाश प्रकाश ने बताया कि बनकटी वन चौकी पर तैनात 45 वर्षीय कूप गार्ड तारा चन्द अपने साथी प्रेमपाल एवं एक अन्य वनकर्मी के साथ जंगल में लगी आग को बुझाने गया था। प्रेमपाल तथा दूसरा वनकर्मी वापस आ गए लेकिन ताराचन्द गायब हो गया था। वनविभाग के कर्मी रातभर उसकी तलाश करते रहे। ताराचन्द के पैरों के पंजे सुबह जंगल में मिले और पास ही उसकी साइकिल, मोबाइल और जूते पड़े थे। आक्रोशित परिजनों ने मृतक के साथ जंगल में गए दूसरे वनकर्मी के घर पर हमला कर दिया जिसमें उसकी पत्नि घायल हो गई।

पुलिस ने शव के अवशेष को उठाकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और धड़ की तलाश की जा रही है। मृतक के परिजनों का आरोप है कि प्रेमपाल ने उन्हें घटना की जानकारी नहीं दी। वन विभाग के अधिकारी मृतक के आश्रित को आर्थिक सहायता एवं परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का आश्वासन दिया। गौरतलब है कि क्षेत्र में पिछले 8 महीने में बाघ ने 11 लोगों को अपना निवाला बन चुका है।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!