EVM के खिलाफ प्रदर्शनः आपस में भिड़े बसपाई, नसीमुद्दीन और अतर का फूंका पुतला

You Are Here
EVM के खिलाफ प्रदर्शनः आपस में भिड़े बसपाई, नसीमुद्दीन और अतर का फूंका पुतलाEVM के खिलाफ प्रदर्शनः आपस में भिड़े बसपाई, नसीमुद्दीन और अतर का फूंका पुतलाEVM के खिलाफ प्रदर्शनः आपस में भिड़े बसपाई, नसीमुद्दीन और अतर का फूंका पुतला

मेरठ(आदिल रहमान): सूबे में हुई करारी हार के बाद बसपा में अंदरूनी कलह भी बढ़ती जा रही है।आज कुछ ऐसा ही मामला मेरठ में देखने को मिला जहां बसपा का एक गुट कमिश्नरी चौराहे पर ईवीएम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहा था, वहीं दुसरा गुट कुछ दुरी पर बसपा के बड़े नेताओ नसीमुद्दीन सिद्द्की और अतर सिंह राव का पुतला फूंक रहा था। दोनों गुटों के बीच टकराव होने ही वाला था कि पुलिस ने उन्हें रोक लिया।

नसीमुद्दीन सिद्दकी और अतर सिंह का फूंका पुतला
दरअसल विधानसभा चुनाव के बाद अब ईवीएम मशीनों का विरोध ज़ोर पकड़ रहा है। बहुजन समाज पार्टी के सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने मेरठ कमिश्नरी चौराहे पर ईवीएम मशीनों का ज़बरदस्त विरोध किया। साथ ही भारी मात्रा में ईवीएम मशीनों की डमी को आग के हवाले कर अपना गुस्सा ज़ाहिर किया। वहीं दूसरी तरफ बीएसपी के ही दूसरे गुट ने बीएसी नेता नसीमुद्दीन सिद्दकी और अतर सिंह राव के पुतले को आग के हवाले किया।

दूसरे गुट में इस बात को लेकर नाराजगी थी कि पार्टी को जो नुक्सान हुआ है वो इनके वजह से हुआ हैं। ये गुट पुतला फूंकते ही पुलिस ने रवाना कर दिया जबकि इसी बीच वहां पहुंच रहे बीएसपी कार्यकर्ताओं के दूसरे गुट को पुलिस ने रोक दिया। जिस पर उनकी पुलिस से नोक झोंक भी हुई। दरअसल बीएसपी सुप्रीमो मायावती के आह्वान पर हार महीने की 11 तारीख को ईवीएम विरोध दिवस के रूप में मनाने की अपील की है। ऐसे में 11 तारीख को सैकड़ो बसपाइयों ने प्रदर्शन किया है।

क्या था मामला?
जानकारी के अनुसार एक ओर योगेश वर्मा के समर्थकों ने ईवीएम में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए ईवीएम मशीन का पुतला फूंका। दूसरी ओर प्रशांत गौतम समर्थकों ने टिकट वितरण में वसूली का आरोप लगाते हुए बसपा के महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी और एमएलसी अतर सिंह राव का पुतला फूंका। अंबेडकर चौक पर योगेश समर्थकों ने प्रशांत समर्थकों के बीच मौजूद एक युवक की पिटाई कर डाली, जिसके बाद दोनों के समर्थक आपस में भिड़ गए और जमकर जुते-चप्पले चले। वहीं मौके पर पहुंची पुलिस ने लाठी फटकारते हुए दोनों के समर्थकों को अलग किया। बाद में कमिश्नरी पार्क में विरोध दिवस की खानापूर्ति कर बसपा नेता वापस लौट गए।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You