अमेठी में कांग्रेस के गढ़ को हिला सकती हैं 'बीजेपी की रानी'

  • अमेठी में कांग्रेस के गढ़ को हिला सकती हैं 'बीजेपी की रानी'
You Are Here
अमेठी में कांग्रेस के गढ़ को हिला सकती हैं 'बीजेपी की रानी'अमेठी में कांग्रेस के गढ़ को हिला सकती हैं 'बीजेपी की रानी'अमेठी में कांग्रेस के गढ़ को हिला सकती हैं 'बीजेपी की रानी'

अमेठीः उत्तर प्रदेश की अमेठी संसदीय सीट कांग्रेस की मजबूत किले के तौर पर जानी जाती है। लेकिन इस बार इसे ढहाने की तैयारी में है बीजेपी की रानी गरिमा सिंह, जो अपनी सौतन और राजा संजय सिंह की दूसरी पत्नी अमिता सिंह के खिलाफ चुनावी मैदान में हैं।

इस बार कांग्रेस की साख हो सकती है दाव पर
बात दें कि अमेठी की यह संसदीय सीट विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के लिए अभेद्द्य किले के रुप में जानी जाती रही है। लेकिन पिछले चुनाव 2012  में यह किला दरक गया था और इस सीट से सपा के गायत्री प्रजापति ने कांग्रेस की अमिता सिंह को हराकर यहां साइकिल दौड़ाई थी। इस बार गठबंधन के बाद भी समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने अपने प्रत्याशी मैदान में उतारे हैं। कांग्रेस की तरफ से अमिता सिंह और मौजूदा विधायक और कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति भी चुनावी रण में ताल ठोक रहे हैं, वहीं बीजेपी ने राजा संजय सिंह की पहली पत्नी गायत्री प्रजापति को मैदान में उतारकर मुकाबला दिलचस्प बना दिया है। बता दें कि राजीव गांधी और सोनिया गांधी के बाद पिछले 15 साल से राहुल गांधी यहां से सांसद हैं।

भूपति महल के अलावा 'असल बीवी' होने का हक भी साख पर
इस बार चुनाव में भूपति महल के वारिस संजय सिंह की दो रानियों ने एक दूसरे के ख़िलाफ़ ताल ठोक ली है। मामला सिर्फ़ भूपति महल तक सीमित नहीं है, बल्कि 'असल बीवी' होने का हक़ भी साख पर है। इस चुनाव में जहां राजा संजय सिंह अपनी दूसरी रानी अमिता सिंह के साख कंधे से कंधा मिलाकर खड़े है। वहीं उनकी पहली पत्नी रानी गरिमा सिंह पहली बार बीजेपी की प्रत्याशी बन चुनाव में उतरी है।
 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You