Subscribe Now!

मुजफ्फरनगर दंगा मामलाः भाजपा नेताओं पर दर्ज मुकदमें वापस लेने पर विचार कर रही याेगी सरकार

  • मुजफ्फरनगर दंगा मामलाः भाजपा नेताओं पर दर्ज मुकदमें वापस लेने पर विचार कर रही याेगी सरकार
You Are Here
मुजफ्फरनगर दंगा मामलाः भाजपा नेताओं पर दर्ज मुकदमें वापस लेने पर विचार कर रही याेगी सरकारमुजफ्फरनगर दंगा मामलाः भाजपा नेताओं पर दर्ज मुकदमें वापस लेने पर विचार कर रही याेगी सरकारमुजफ्फरनगर दंगा मामलाः भाजपा नेताओं पर दर्ज मुकदमें वापस लेने पर विचार कर रही याेगी सरकार

मुजफ्फरनगरः उत्तर प्रदेश सरकार ने 2013 के मुजफ्फरनगर दंगा मामले में भाजपा नेताओं के खिलाफ यहां की एक अदालत में लंबित 9 आपराधिक मामलों को वापस लेने की संभावना पर सूचना मांगी है। यह जानकारी राज्य के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा जिलाधिकारी को लिखे गए पत्र में मिली। 

उत्तरप्रदेश के मंत्री सुरेश राणा, पूर्व केंद्रीय मंत्री संजीव बाल्यान, सांसद भारतेंदु सिंह, विधायक उमेश मलिक और पार्टी नेता साध्वी प्राची के खिलाफ मामले दर्ज हैं। जिलाधिकारी को 5 जनवरी को लिखे पत्र में उत्तर प्रदेश के न्याय विभाग में विशेष सचिव राज सिंह ने 13 बिंदुओं पर जवाब मांगा है। जिनमें जनहित में मामलों को वापस लिया जाना भी शामिल है। 

पत्र में मुजफ्फरनगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक का विचार भी मांगा गया है। बहरहाल पत्र में नेताओं के नाम का जिक्र नहीं है, लेकिन उनके खिलाफ दर्ज मामलों की फाइल संख्या का जिक्र है। आरोपी निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने, नौकरशाहों के काम में बाधा डालने और उनको गलत तरीके से रोकने के लिए भादंसं की विभिन्न धाराओं के तहत आरोपों का सामना कर रहे हैं। मुजफ्फरनगर और आसपास के इलाकों में अगस्त, सितंबर 2013 में हुए सांप्रदायिक दंगे में 60 लोग मारे गए थे और 40 हजार से अधिक लोग बेघर हुए थे।  
 




अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन