2000 के नोट लाने का फैसला समझ से परे: अमर सिंह

  • 2000 के नोट लाने का फैसला समझ से परे: अमर सिंह
You Are Here
2000 के नोट लाने का फैसला समझ से परे: अमर सिंह2000 के नोट लाने का फैसला समझ से परे: अमर सिंह2000 के नोट लाने का फैसला समझ से परे: अमर सिंह

लखनऊ: समाजवादी पार्टी में 6 साल के लंबे अंतराल के बाद जगह बना पाने वाले अमर सिंह का कहना है कि वह अपनी दूसरी पारी में मुलायम सिंह यादव पर अपने फैसले नहीं थोपेगे। वह नेतृत्व करने की बजाय चाहेंगे कि मुलायम सिंह का उनको नेतृत्व मिले। उन्होंने समाजवादी पार्टी में पारिवारिक कलह के पीछे मीडिया और कुछ महत्वाकांक्षी लोगों को जिम्मेदार ठहराया।

नोटबंदी का कदम सराहनीय
अमर सिंह ने नोटबंदी पर कहा कि कालेधन को रोकने के लिए लिया जाने वाला हर कदम सराहनीय है लेकिन सरकार के 2000 रुपए के नए नोटों को लाने का फैसला समझ से परे है। अमर सिंह से जब पारिवारिक कलह को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अगर सवाल रामगोपाल यादव से जुड़ा है तो बता दूं कि हम पुरानी चीजों को पूरी तरह भुला चुके हैं। यहां तक कि पार्टी के संसदीय बोर्ड में मेरी नियुक्ति भी उन्होंने खुद ही की थी।

कांग्रेस को समर्थन देने की भूल दोहराना नहीं चाहेंगे
अमर सिंह ने कहा कि 2008 में कांग्रेस को समर्थन देने की भूल उनसे हुई और वह इसे दोहराना नहीं चाहेंगे। 2017 यूपी विधानसभा इलैक्शन में उन्होंने अखिलेश यादव को शासन और राजनीति के हिसाब से काबिल चेहरा बताया लेकिन उन्होंने यह भी जोड़ा कि अगर राजनीतिक अनुभव, परिपक्वता और पहुंच के लिहाज से देखा जाए तो मैं अब भी मुलायम सिंह यादव को अखिलेश से बेहतर मुख्यमंत्री मानता हूं।

UP Political News की अन्य खबरें पढ़ने के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You