अब अपराधियों की खैर नहीं, ‘आगरा रेंज क्राइम वीडियो’ चैनल खोलेगा सबकी पोल

  • अब अपराधियों की खैर नहीं, ‘आगरा रेंज क्राइम वीडियो’ चैनल खोलेगा सबकी पोल
You Are Here
अब अपराधियों की खैर नहीं, ‘आगरा रेंज क्राइम वीडियो’ चैनल खोलेगा सबकी पोलअब अपराधियों की खैर नहीं, ‘आगरा रेंज क्राइम वीडियो’ चैनल खोलेगा सबकी पोलअब अपराधियों की खैर नहीं, ‘आगरा रेंज क्राइम वीडियो’ चैनल खोलेगा सबकी पोल

आगराः सोशल मीडिया का प्रयोग हम रोज मर्रा की जिंदगी में सबसे ज्यादा करते है। यूं कहे तो दिन की शुरूआत और रात बीतने तक सोशल मीडिया से जुड़े रहना हमारी अहम जरुरत बनती जा रही है। बस इसी के मदे-नजर यूपी पुलिस इस का प्रयोग अपने अनूठे अभियान के तहत करने जा रही है। आगरा की पुलिस क्रिमिनल इंटेलीजेंस इसके जरिए अपराध के ग्राफ को कम करने तथा भ्रष्ट अधिकारियों के काले कारनामों उजागर करने की नेक कोशिश करने जा रही है।

‘आगरा रेंज क्राइम वीडियो’ नाम से यू ट्यूब चैनल लॉन्च
दरअसल टीम ने ‘आगरा रेंज क्राइम वीडियो’ के नाम से यू ट्यूब पर चैनल लॉन्च किया है। जिसके माध्यम से अपराधियों के बारे में जानकारी जुटाना आसान हो जाएगा। खास बात ये है कि सीसीटीवी कैमरे और दूसरे इलेक्ट्रोनिक गैजेट्स अपराधी पकड़ने में बहुत कारगर साबित हो रहे हैं। जिसके मद्देनजर ये प्रयोग किया जा रहा है।

यूपी पुलिस का पहला प्रयोग
बता दें प्रतिदिन बहुत सी एेसी घटनाओं सामने आती है, जहां सीसीटीवी कैमरे में अपराधियों का वीडियो मिलने के बाद भी पुलिस उन्हें ट्रेस नहीं कर पाती। पब्लिक भी अपराधियों के बारे में जानकारी देने को खुलकर सामने नहीं आती। आइजी मुथा अशोक जैन ने अब पब्लिक से अपराधियों के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए नया प्रयोग किया है।

अब तक 15 वीडियों हो चुके है अपलोड
इस पर अब तक 15 वीडियो अपलोड किए गए हैं। इनमें से एक पिछले दिनों सदर में सर्राफ के घर में लूट की कोशिश करने वाले बदमाशों का है। कुछ वीडियो एटीएम से रुपये पार करने वाले शातिरों के हैं। इन अपराधियों को ट्रेस करने के लिए पुलिस ने काफी प्रयास किए, लेकिन सफलता नहीं मिली।

सूचना देने वाली की पहचान होगी गुप्त
अब ये वीडियो इस चैनल के माध्यम से सार्वजनिक किए गए हैं। इस यू ट्यूब चैनल को 300 से ज्यादा लोग देख चुके है। वहीं 253 लोगों ने इस चैनल को सब्सक्राइब किया है। आगरा जोन के आइजी का कहना है कि वीडियो देखने के बाद लोगों को बदमाशों के बारे में कोई जानकारी मिलेगी, तो निश्चित रूप से पुलिस को गोपनीय रूप से बताएंगे। यह जानकारी सीयूजी नंबर या ई मेल पर भी दी जा सकती है। सूचना देने वाले की पहचान नहीं खोली नहीं जाएगी और उस पर तत्काल कार्रवाई होगी


 



UP LATEST NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !