अयोध्या से बहुतों को चिढ़, लेकिन हमारे लिए आस्था का केन्द्र: योगी

  • अयोध्या से बहुतों को चिढ़, लेकिन हमारे लिए आस्था का केन्द्र: योगी
You Are Here
अयोध्या से बहुतों को चिढ़, लेकिन हमारे लिए आस्था का केन्द्र: योगीअयोध्या से बहुतों को चिढ़, लेकिन हमारे लिए आस्था का केन्द्र: योगीअयोध्या से बहुतों को चिढ़, लेकिन हमारे लिए आस्था का केन्द्र: योगी

अयोध्या/फैजाबादः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को अयोध्या में कहा है कि अयोध्या से बहुतों को चिढ़ है, लेकिन राम की जन्मभूमि होने के नाते यह हमारे लिए आस्था का केन्द्र है।

प्रचार की पहली रैली का अयोध्या से आगाज
बता दें निकाय चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत के लिए पहली रैली अयोध्या में हुई। जहां योगी ने फैजाबाद के जीआईसी मैदान में आयोजित जनसभा में भाजपा की बहुमत वाले बोर्ड गठन करने की अपील की।  नगर निकाय चुनाव अभियान की शुरुआत अयोध्या से करते हुए उन्होंने एक संदेश भी दिया।

पिछली सरकारों ने नहीं दिया अयोध्या को सम्मान
जिस पर उन्होंने कहा कि अयोध्या के प्रति बीजेपी सरकार काफी गंभीर है। कुछ लोग इसे हिन्दुत्व से भी जोड़कर देख रहे हैं। अयोध्या को जो सम्मान मिलना चाहिए था, वह पिछली राज्य सरकारों ने नहीं दिया। इसलिए अयोध्या के सामने पहचान का संकट पैदा करने वालों को माफ नहीं किया जाना चाहिए। अयोध्या को उसका सम्मान मिलना ही चाहिए, इसीलिए कुर्सी संभालते ही उन्होंने अयोध्या और मथुरा को नगर निगम बना दिया।

अयोध्या को अन्तर्राष्ट्रीय पहचान दिलाई जाएगी
योगी ने कहा कि अयोध्या के कारण ही देश दुनिया में दीपावली की शुरुआत हुई, लेकिन अयोध्या में ही यह त्यौहार समाप्ति की कगार पर था। उन्होंने तय किया था कि इस बार दीपावली में उनकी पूरी सरकार अयोध्या में रहेगी। इसका पालन करने के साथ ही 135 करोड़ रुपए की योजनाओं का शिलान्यास किया गया। निकाय चुनाव के बाद और योजनाए शुरु की जाएंगी। अयोध्या को अन्तर्राष्ट्रीय पहचान दिलाई जाएगी और इसके लिए उसी के अनुरुप विकास किया जाएगा।

नगर निकायों में 15 वर्षों तक पैसों का बंदरबाट
योगी ने आरोप लगाते हुए कहा कि नगर निकायों में 15 वर्षों तक पैसों का बंदरबाट किया गया। ठेके नगर विकास मंत्री के लखनऊ स्थित आवास से बांटे गए। जनता को सुविधाओं से वंचित किया गया। नगर निकायों की स्वतंत्रता पर प्रहार किया गया।

भाजपा के ही बोर्ड का गठन होना चाहिए
इसके साथ ही सीएम ने कहा कि वैसे तो 30 फीसदी आबादी नगर निकाय क्षेत्रों में रहती है, लेकिन शेष 70 फीसदी आबादी की निर्भरता नगर इकाईयों के इर्द-गिर्द रहती है। केन्द्र और राज्य सरकार चाहते हैं कि नगर निकायों का समग्र विकास हो। दोनों सरकारों से आने वाला पैसों का उपयोग जनता के हित में हो। इसके लिए भाजपा के ही बोर्ड का गठन होना चाहिए।

40 जनसभाओं को करेंगे संबोधित
बता दें कि सीएम योगी निकाय चुनाव के दौरान कुल 40 जनसभाओं को संबोधित करेंगे। वहीं निकाय चुनाव के मद्देनजर सीएम योगी की यह पहली जनसभा है।

कब कहां प्रचार करेंगे योगी आदित्यनाथ
- 14 नवंबर- अयोध्या, गोंडा, बहराइच
- 15 नवंबर- कानपुर
- 16 नवंबर- अलीगढ़, मथुरा, आगरा
- 17 नवंबर- इलाहाबाद
- 18 नवंबर- मुजफ्फरनगर, मेरठ और गाजियाबाद
- 19 नवंबर- गाजीपुर, देवरिया
- 20 नवंबर- बलरामपुर, बस्ती और गोरखपुर
- 21 नवंबर- जौनपुर, बलिया, मऊ
- 22 नवंबर- वाराणसी
- 23 नवंबर- शाहजहांपुर, फर्रुखाबाद और कन्नौज
- 24 नवंबर- झांसी, फतेहपुर और लखनऊ।
- 25 नवंबर- बाराबंकी, लखीमपुर, बरेली
- 26 नवंबर- मुरादाबाद, सहारनपुर
- 27 नवंबर- कुशीनगर में रैली करेंगे।


 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!