UP विधानसभा विस्फोटक मामलाः CM योगी बोले- NIA से करवाई जाएगी जांच

  • UP विधानसभा विस्फोटक मामलाः CM योगी बोले- NIA से करवाई जाएगी जांच
You Are Here
UP विधानसभा विस्फोटक मामलाः CM योगी बोले- NIA से करवाई जाएगी जांचUP विधानसभा विस्फोटक मामलाः CM योगी बोले- NIA से करवाई जाएगी जांचUP विधानसभा विस्फोटक मामलाः CM योगी बोले- NIA से करवाई जाएगी जांच

लखनऊः यूपी विधानसभा में एक बेहद शक्तिशाली विस्फोटक बरामद होने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने सुरक्षा व्यवस्था को लेकर बैठक बुलाई, जिसमें घटना की जांच एटीएस को सौंप दी है। विधानसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अदित्यनाथ ने कहा है कि इस साजिश का पर्दाफाश होगा और इसकी जांच एएनआई से करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि सुरक्षा व्यावस्था केवल सरकार की जिम्मेदारी नहीं है।

सुरक्षा व्यवस्था से खिलवाड़ मंजूर नहीं
योगी आदित्यनाथ ने सदस्यों से अपील की है कि सुरक्षा जांच में सहयोग करें साथ ही साथ लाए जाने वाले बैग और मोबाइल विधानसभा के बाहर ही रखें जाएं। किसी को खुश करने के लिए सुरक्षा व्यवस्था से खिलवाड़ मंजूर नहीं है। विधानसभा की गाइडलाइंस हो साथ ही सुरक्षा में लगे लोगों की पहचान अनिवार्य हो। जो पीईटीएन विस्फोटक मिला है वो एक पुड़िया में मिला है और इसकी 500 ग्राम मात्रा पूरी विधानसभा को उड़ाने में सक्षम है।

कर्मचारियों का वैरिफिकेशन हो जरूरी
योगी बोले पूरे विधानसभा भवन को उड़ाने के लिए 500 ग्राम PETN पर्याप्त है। कौन लोग लेकर आए हैं? जनप्रतिनिधियों को विशेषाधिकार दिया गया है, तो उसका ऐसा इस्तेमाल होगा। ये बुरी स्थिति है। हम अब तक बाहर की सुरक्षा के लिए चिंतित थे, लेकिन गुरुवार को जो चीजें सामने आईं, वो गंभीर हैं। मेरा आग्रह है कि जो इस विधानभवन में लगे कर्मचारियों का वैरिफिकेशन जरूरी है।

शरारती तत्त्वों ने चुनौतीपूर्ण किया काम
योगी ने कहा कि क्या हम किसी व्यक्ति को ऐसी छूट दे सकते हैं कि 403 विधायकों की सुरक्षा से खिलवाड़ करे, पूरी विधानसभा, कर्मचारियों की सुरक्षा से खिलवाड़ करे, जो इस प्रकार की शरारत पर उतर आया है कि सुरक्षा को चुनौती दे। ये तय होना चाहिए कि हम लोग किसी एक व्यक्ति के लिए या किसी को खुश करने के लिए या तुष्टि के लिए 503 जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों-कर्मचारियों की सुरक्षा से खिलवाड़ करने की छूट नहीं दे सकते।

प्रदेश की 22 करोड़ जनता की सुरक्षा के साथ खिलवाड़
योगी ने कहा कि ये प्रदेश की 22 करोड़ जनता की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ है, जिसने ये किया है उसे सजा मिलनी चाहिए। मैं सभी मेंबर्स से कहूंगा कि ये आपकी सुरक्षा से जुड़ा मुद्दा है और आप इसमें सहयोग करें। अगर विधानभवन के अंदर आ रहे हैं तो हमें सुरक्षा जांच करने में संकोच नहीं करना चाहिए। जिस विधानसभा में हमें पब्लिक से जुड़ी समस्याओं पर चर्चा करनी चाहिए, आज वहां हमें अपनी सुरक्षा में सेंध लगने के बारे में विचार करना पड़ रहा है। ये लोग कौन हैं, इसकी जांच होनी चाहिए।

हमें बरतनी चाहिए सावधानी
योगी ने कहा कि अभी तक विधानसभा की थ्री लेयर सिक्युरिटी है। सचिवालय की अलग, विधानभवन के बाहर अलग और विधानसभा में मार्शलों की अलग। इनमें कोई कोऑपरेशन नहीं है। यूपी में सबसे बड़ी देश की विधानसभा है, इसके बावजूद इसकी सुरक्षा पर अभी तक ध्यान नहीं दिया गया। कहीं ना कहीं हमें सावधानी हमें बरतनी चाहिए।

विधानसभा में मिला था विस्फोटक
बता दें कि 12 जुलाई को विधानसभा में एक सफेद पाउडर मिला था जिसे जांच के लिए फोरेंसिक लैब भेजा गया था। जांच में खुलासा हुआ है कि यह एक बेहद शक्तिशाली विस्फोटक था। हालांकि विधानसभा में किसी डिटोनेटर की बरामदगी नहीं हुई है। अगर इसके साथ डिटोनेटर भी होता तो बड़ा धमाका हो सकता था। यह विस्फोटक सदन में एक विधायक की सीट के नीचे बरामद हुआ है।

क्या है PETN?
यह एक बेहद खतरनाक विस्फोटक है जो डिटोनेटर के साथ बड़ा धमाका करने में सक्षम है। एक गंधहीन सफेद पाउडर है जिसे पकड़ना आसान नहीं होता। यहां तक की खोजी कुत्ते भी कई बार इसकी पहचान नहीं कर पाते।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !