मुलायम और अखिलेश जानते हैं इस बार तय है समाजवादी पार्टी का सफाया: योगी आदित्यनाथ

  • मुलायम और अखिलेश जानते हैं इस बार तय है समाजवादी पार्टी का सफाया: योगी आदित्यनाथ
You Are Here
मुलायम और अखिलेश जानते हैं इस बार तय है समाजवादी पार्टी का सफाया: योगी आदित्यनाथमुलायम और अखिलेश जानते हैं इस बार तय है समाजवादी पार्टी का सफाया: योगी आदित्यनाथमुलायम और अखिलेश जानते हैं इस बार तय है समाजवादी पार्टी का सफाया: योगी आदित्यनाथ

गोरखपुुर(अजीत सिंह): रामगोपाल यादव द्वारा भाजपा के साथ मिलकर सपा के तोडऩे के आरोपों पर महंत आदित्‍यनाथ ने कहा कि मुलायम सिंह यह न भूलें कि 89 में जब उनकी सरकार बनी थी तो भाजपा ने ही उन्‍हें समर्थन दिया था। मुलायम सिंह के आरोपों पर सवाल करने पर उन्‍होंने कहा कि एक परिवार के विवाद में लोगों ने प्रदेश की समस्‍याओं को डायल्‍यूट किया है। इस दौरान योगी ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि उम्र बढ़ गई लेकिन बचपना नहीं गया। 

सपा का सफाया तय 
आदित्‍यनाथ यहीं चुप नहीं रहे उन्‍होंने आगे कहा कि समाजवादी पार्टी का सफाया तय है यह मुलायम, अखिलेश और रामगोपाल भी जानते हैं। मैं शुरू से कह रह हूं कि यह केवल पारिवारिक नौटंकी है। इसे एक हाईप्रोफाइल पॉलिटिकल ड्रामा जिसको आप कह सकते हैं। केवल समाजवादी पार्टी की पौने पांच वर्ष की नाकामियों को छुपाने के लिए यह ड्रामा रचा गया है। इसलिए इसे बहुत महत्‍व नहीं दिया जाना चाहिए, यह नूराकुश्‍ती है।

89 में बीजेपी का समर्थन में मुख्यमंत्री बने थे मुलायम
इस सवाल पर कि मुलायम अब रामगोपाल के बीजेपी से मिलकर सपा को तोडऩे का प्रयास कर रहे हैं तो इसे आप क्‍या कहेंगे....इस सवाल पर उन्‍होंने कहा कि यह प्रश्‍न मुलायम सिंह जी से पूछा जाना चाहिए कि 89 में क्‍या वह बीजेपी के समर्थन से मुख्‍यमंत्री नहीं बने थे क्‍या। 89 में वह बीजेपी के समर्थन से ही मुख्‍यमंत्री बने थे।  

राहुल गांधी पर साधा निशाना 
राहुल गांधी के नोटबंदी पर देश की कमर टूटने और प्रधानमंत्री की योजनाओं का मजाक उड़ाने के सवाल पर उन्‍होंने कहा कि बहुत सारे लोगों की उम्र बढ़ जाती हैं, लेकिन उनका बचपना नहीं जाता है। नोटबंदी ने भ्रष्‍टाचार की कमर तोड़ी है। नोटबंदी ने इस देश के अंदर आतंकवाद, नक्‍सलवाद, कालाधन रखने वालों की कमर तोड़ी होगी। आमजन खुश है, मुझे लगता है समय-समय पर हुए चुनाव ने यह फैसला करके दिखाया है।

कांग्रेस ने 55 साल के कार्यकाल कुछ नहीं किया
लोकतंत्र में जनता का जनमत लोकतंत्र का आइना होता है और राहुल गांधी को यह बात समझनी चाहिए। मैंने कहा न कि जब उन्‍होंने कुछ किया ही नहीं। राहुल गांधी और उनसे जुड़ी सरकारों ने देश के लिए आजादी के बाद से कुछ किया ही नहीं। विकास कैसे होता है स्‍वाभाविक रूप से यह समझ उनके पास होगी भी नहीं। कांग्रेस ने अपने 55 साल के कार्यकाल में किया क्‍या है। मुझे लगता है कि उनके 55 साल के कार्यकाल में मोदी जी का ढाई साल का कार्यकाल भारी पड़ेगा। विकास के कार्यक्रम नौजवानों और किसानों के लिए जो कार्य कर पा रहे हैं वह इसलिए कि कांग्रेस ने यह कार्य नहीं किए। विकास उनके एजेंडे में था ही नहीं। 

कांग्रेस कार्यकाल में हुआ हर साल घोटाला 
कांग्रेस के 10 साल के यूपीए के कार्यकाल में हर साल एक-एक घोटाला सामने आता था। यदि घोटाला को ही वह विकास मान लेते हैं तो एक परिवार का विकास ही यदि विकास है तो भगवान से प्रार्थना करिए कि इस तरह के विकास से तौबा करें। समग्र विकास की जो हम गांव, गरीब और किसान की बात करते हैं।

UP Latest News की अन्य खबरें पढ़ने के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !