यूपी फतह के लिए टाेटकाें का सहारा ले रही भाजपा!

  • यूपी फतह के लिए टाेटकाें का सहारा ले रही भाजपा!
You Are Here
यूपी फतह के लिए टाेटकाें का सहारा ले रही भाजपा!यूपी फतह के लिए टाेटकाें का सहारा ले रही भाजपा!यूपी फतह के लिए टाेटकाें का सहारा ले रही भाजपा!

कानपुर (अंबरीश त्रिपाठी): आगामी विधानसभा चुनाव में जीत के लिए भाजपा ने टाेटकाें का सहारा लेना शुरु कर दिया है। इसी वजह से प्रधानमंत्री मोदी की 18 दिसंबर को होनी वाली कानपुर रैली की तिथि को बदलकर 19 दिसंबर कर दिया गया है। इतना ही नहीं खबर है कि प्रधानमंत्री की इस रैली काे सफल बनाने के लिए बीजेपी कार्यकर्त्ताआें द्वारा घर घर जाकर हल्दी आैर पीले चावल भी बांटे जा रहे हैं। हालांकि कुछ लाेग इस खबराें में बने रहने के लिए भाजपा की चाल बता रहे हैं। बीजेपी के इस अंधविश्वास पर विपक्ष ने जाेरदार हमला बाेला है। 

क्या है वजह?
दरअसल कानपुर से ही प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी ने लोकसभा चुनाव का आगाज किया था। यहां विजय शंखनाद रैली 19 अक्टूबर 2013 काे आयाेजित की गई थी। जिसके बाद पार्टी काे यूपी में एतिहासिक सफलता मिली थी। अचानक पीएमआे ने रैली की तारीख में बदलाव कर दिया। रैली 18 दिसंबर के बदले 19 दिसंबर काे की जाएगी। 

राजनीतिज्ञाें ने कहा टोटके के चलते हुआ बदलाव
राजनीतिज्ञाें का कहना है कि यह सब हुआ टोटके के चलते हुआ है क्योंकि इसके पहले 19 अक्टूबर 2013 को तत्कालीन पार्टी प्रधानमंत्री उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने कानपुर से विजय शंखनाद रैली का आगाज किया था। जिससे यूपी में 73 सांसदों की जीत के साथ केन्द्र में पूर्ण बहुमत की सरकार बनी। इसी को देखते हुए पार्टी पदाधिकारियों ने 18 दिसंबर की जनसभा को बदलाव करने की सलाह दी, हुआ भी ऐसा।

19 तारीख पार्टी के लिए लकी-बीजेपी
भाजपा नेता मोहित दुबे ने बताया कि 19 तारीख पार्टी के लिए लकी है। एक बार फिर इसी तारीख से मोदी जी यूपी के परिवर्तन का आगाज करने जा रहें है। यह तारीख हमारे लिए सौभाग्यशाली साबित और इतिहास रचने जा रही है। रैली यूपी के सारे रिकार्ड तोड़ देगी। 19 तारीख पार्टी के लिए ऐतिहासिक व सौभाग्यशाली है।इस दिन पीएम की रैली होने से विजय का आत्मविश्वास और बढ़ जाना स्वाभाविक है।

टोटकों और जुमलों की पार्टी है भाजपा-कांग्रेस
भाजपा के इस टोटके पर जब अन्य पार्टी नेताओं से बात की तो कांग्रेस के बिठूर विधानसभा प्रत्याशी अभिजीत सिंह सांगा ने कहा कि भाजपा तो टोटकों और जुमलों की पार्टी है, हर बार पार्टी ऐसे ही टोटके और जुमले छोड़ती रहती है। इस बार 2017 के विधानसभा चुनाव में उनके टोटके जुमले काम नहीं आने वाले। 

टोने-टोटके से नहीं बनती सरकार-सपा
रैली पर टोटके की बात पर समाजवादी पार्टी के गोविन्द नगर विधानसभा के प्रत्याशी सुनील शुक्ला ने कहा कि सरकारें झूठ और फरेब से नहीं बनती। सरकारें हमेशा विकास कार्यो से बनती हैं। भाजपा के पास केवल टोने टोटके ही हैं । 

चुनाव में एेसे ही सिगूफे छोड़ती है भाजपा-बसपा
बसपा नेता निर्मल तिवारी ने कहा कि भाजपा जब चुनाव आते हैं तो कोई न कोई शिगूफा छोड़ देती है फिर चाहे वो राम मंदिर हो या भ्रष्टाचार या कालाधन। अबकी बार कुछ नहीं मिला तो 19 तारीख का टोटका ही चला दिया, लेकिन आगामी चुनाव में ऐसे टोटके काम नहीं आने वाले। 

19 दिसम्बर भाजपा के अनुकूल नहीं-ज्योतिषाचार्य
सभी राजनैतिक पार्टियों के बयानों पर विराम लगाते हुए प्रसिद्द ज्योतिषाचार्य के.ए. दुबे पदमेश ने बताया कि तारीख और समय के पंचांग को देखकर 19 अक्टूबर 2013 को गृह और नक्षत्र भाजपा के पक्ष में थे, जिसमें भाजपा को अप्रत्याशित सफलता मिली थी। लेकिन इस बार 19 दिसम्बर 2016 को गृह नक्षत्रों के हिसाब से समय भाजपा के अनुकूल नहीं है। रैली तो सफल होगी लेकिन इसका चुनावों के परिणाम पर अनुकूल असर नहीं पडेगा । 

UP Political News की अन्य खबरें पढ़ने के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You