सपा-कांग्रेस गठबंधन की चर्चाएं तेज, सपा में भी उठने लगी प्रियंका की मांग

  • सपा-कांग्रेस गठबंधन की चर्चाएं तेज, सपा में भी उठने लगी प्रियंका की मांग
You Are Here
सपा-कांग्रेस गठबंधन की चर्चाएं तेज, सपा में भी उठने लगी प्रियंका की मांगसपा-कांग्रेस गठबंधन की चर्चाएं तेज, सपा में भी उठने लगी प्रियंका की मांगसपा-कांग्रेस गठबंधन की चर्चाएं तेज, सपा में भी उठने लगी प्रियंका की मांग

लखनऊ: आगामी यूपी विधानसभा चुनाव को देखते हुए समाजवादी पार्टी और कांग्रेस में गठबंधन की चर्चाएं तेज हो गई हैं। राजनीतिक गलियारों से भी दोनों पार्टियों के जल्द गठबंधन की खबरें आ रही हैं। इतना ही नहीं संभावित गठबंधन के बीच दोनों ही पार्टियों में प्रियंका गांधी को लेकर आवाज भी मुखर होने लगी है। दोनों ही पार्टियों के नेताओं का मानना है कि चुनाव में उनकी सक्रियता से दोनों को ही फायदा होगा। लिहाजा दोनों पार्टी के नेता इसको लेकर कवायद करने में जुटे हैं। बता दें कि यूपी में विधानसभा चुनाव 2017 जनवरी-फरवरी में होने की संभावना जताई जा रही है। 

दोनों पार्टियों के नेताओं के बीच वार्ता जारी 
एक अंग्रेजी अखबार की वेबसाइट ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि गठबंधन को लेकर दोनों पार्टियों के नेताओं के बीच वार्ता जारी है। इस दौरान समाजवादी पार्टी के एक नेता ने प्रियंका गांधी का नाम लेते हुए कहा कि वह चुनाव में बड़ी भूमिका निभा सकती हैं। उन्होंने कहा कि वह जीत में भी अहम भूमिका निभा सकती हैं। उनकी चुुनाव में भूमिका को लेकर कांग्रेस से कहा भी जा चुका है। 

प्रियंका की भूमिका से दोनों पार्टियों को होगा फायदा
उन्होंने कहा कि कांग्रेस के किसी भी अन्य नेता से ज्यादा बेहतर प्रियंका हो सकती हैं। हालांकि उन्होंने माना कि यह पार्टी का अंदरुनी मामला है कि वह प्रियंका से चुनाव प्रचार करवाती है या नहीं। लेकिन हमने अपनी बात कांग्रेस के समक्ष रख दी है। उन्होंने कहा कि वह मानते हैं कि प्रियंका यदि चुनाव में सक्रियता से भूमिका निभाएंगी तो दोनों ही पार्टियों की सीटों में इजाफा होगा। इस गठबंधन को लेकर राष्ट्रीय लोक दल से भी बातचीत चल रही है।

110 सीटों पर अड़ी है कांग्रेस 
सपा नेता का कहना था कि उन्हें उम्मीद है कि वह रालोद और कांग्रेस को महागठबंधन का हिस्सा बना पाने में सफल हो जाएंगे। हालांकि उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि इस गठबंधन के आसार तभी हैं जब कांंग्रेस उन्हें दी जाने वाली 75-80 सीटों पर राजी हो जाए, क्योंकि फिलहाल वह 110 सीटों पर अड़ी हुई है। कांग्रेस की बात की जाए तो वहां पर प्रियंका को लेकर मांग पहले भी उठती रही है। एक स्थानीय कांग्रेसी नेता के मुताबिक इस वर्ष मई में प्रियंका ने पार्टी के ब्लॉक अध्यक्षों से भी बैठक की थी। इस दौरान भी प्रियंका को चुनावी मैदान में उतारने को लेकर मांग की गई थी। इस बैठक में सभी का कहना था कि प्रियंका के चुनाव में आने से पार्टी को फायदा हो सकता है। इसके बाद प्रियंका ने प्रशांत किशोर से मुलाकात की थी। 

UP Political News की अन्य खबरें पढ़ने के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!