बड़ा खुलासा: यूपी विधानसभा में लगे कुल 100 कैमरे में से 94 निकले खराब

You Are Here
बड़ा खुलासा: यूपी विधानसभा में लगे कुल 100 कैमरे में से 94 निकले खराबबड़ा खुलासा: यूपी विधानसभा में लगे कुल 100 कैमरे में से 94 निकले खराबबड़ा खुलासा: यूपी विधानसभा में लगे कुल 100 कैमरे में से 94 निकले खराब

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा के मुख्य हाल में मिले विस्फोटक पदार्थ के बाद चेकिंग अभियान तेज कर दिया गया है। हर स्तर पर जांच एजेंसियां विधानसभा भवन की निगरानी कर रही हैं। इसी के मद्देनजर शुक्रवार की रात और शनिवार को एटीएस की टीम ने विधानसभा के सिक्युरिटी इंतजामों की जांच की जिसमें एक बड़ा खुलासा हुआ है। दरअसल विधानसभा में लगे कुल 100 सीसीटीवी कैमरों में से 94 खराब पाए गए हैं। इतना ही नहीं पता चला कि सदन के अंदर लगे 6 कैमरों को सेशन शुरू होने से महज आधे घंटे पहले ही चालू किया जाता है। छह कैमरों में पांच लाइव करते हैं, जबकि एक ही कैमरा रिकार्डिंग के लिए रखा जाता है। 

सदन के अंदर लगे कैमरों को रखा जाता है बंद 
एटीएस की जांच में शनिवर को विधानसभा की सुरक्षा में हो रही बड़ी चूक का सामने आई है। जांच में पता चला है कि सदन के अंदर लगे कैमरों को बंद रखा जाता है, जबकि सुरक्षा के लिहाजा से कैमरों को 24 घंटे चालू रहना चाहिए। अंदर लगे छह कैमरों को सेशन शुरू होने से महज आधा घंटे पहले ही शुरू किया जाता है। उससे पहले सदन के अंदर कौन आया, कौन गया इस बात की जानकारी इन कैमरों से नहीं हो सकती। यही वजह है कि एक्सप्लोसिव मिलने के तीन दिन बीत जाने के बाद भी एटीएस अभी तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। सूत्रों का कहना है कि उसे कुछ फैक्ट्स हाथ जरूर लगे हैं, जिनके सहारे वह मामले की तह तक जाने में लगी है। 

9 विधायक समेत 49 लोगों से हुई पूछताछ 
सूत्रों के मुताबिक नेता विपक्ष रामगोविंद चौधरी के पीछे एक सीट छोड़कर विस्फोटक पदार्थ मिला था। ऐसे में उस सीट के आसपास बैठने वाले 9 विधायकों से सुरक्षा एजेंसियां पूछताछ में जुटी हुई हंै। शनिवार को एटीएस ने सपा के विधायक मनोज पांडेय से उनके आवास पर पूछताछ की। वहीं, विधानसभा रक्षक दल के 32 लोग भी पूछताछ के दायरे में हैं, जबकि 8 कर्मचारी जो कि फोर्थ क्लास हैं। वह भी जांच के दायरे में हैं। सूत्रों का कहना है कि इनसे पूछताछ जारी है।

ATS ने किया मॉक ड्रिल
सीएम योगी के सख्त होने के बाद विधानसभा की सुरक्षा में लगी एटीएस की क्विक रिस्पांस टीम (क्यूआरटी) एक्टिव हो गई। शनिवार को करीब 20 कमांडों के साथ क्यूआरटी टीम ने विधानसभा का कोना-कोना खंगाला। साथ ही विधानसभा के अंदर एक मॉक ड्रिल भी किया। इस ड्रिल में पुलिस फोर्स के अलावा दमकल विभाग भी शामिल हुआ। मॉकड्रिल में क्यूआरटी ने किसी भी आतंकी वारदात या ऐसी किसी भी अटैक से निपटने के लिए जोर आजमाइश की।

SP-ATS ने दिए सभी गेट पर बंकर बनाने के निर्देश
एसपी एटीएस प्रभाकर चौधरी ने कहा, ‘अब विधान सभा सत्र के दौरान एटीएस की 3 टीम निगरानी करेगी। आम दिनों में भी एटीएस की एक टीम विधानसभा में मौजूद रहेगी। शनिवार को एटीएस की टीम ने विधानसभा के सभी इंट्री पॉइंट को चेक किया है। इसके साथ ही सभी गेट पर बंकर बनने के ऑर्डर दिए गए हैं।’ 



UP LATEST NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें-
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You